नवीनतम लेख/रचना


  • कमाल के किस्से-14

    कमाल के किस्से-14

    ये कमाल क्या है? कमाल क्यों होता है? कमाल कब होता है? कुछ पता नहीं, पर हो जाता है. चलिए आज हम फिर कमाल की ही बात कर लेते हैं. पहले प्रस्तुत हैं कमाल के किस्से...

  • कुण्डलिया

    कुण्डलिया

    1. होना गुण का श्रेष्ठ है, नहीं जाति का भ्रात अवगुण का जो घर बना, जन कुल पर आघात जन कुल पर आघात, दम्भ बस पाले रहता हुआ नशे में चूर, न समझे किस रो बहता...

  • कविता- चुनाव चल रहा है

    कविता- चुनाव चल रहा है

    चुनाव चल रहा है अच्छे वादे दिख रहे होगें लोग बिक रहे होगें, भाषण पिलाया जा रहा झूठे कसमे खाया जा रहा, धड़ियाली आंसू बहा रहे जनता को हितैषी बता रहे ये नजारा पांच साल पहले...




  • बालमन

    बालमन

    जोश सब  में भरे  बालमन। शाद दिल को करे बालमन। खौफ रखता  परे  बालमन। कब किसी से  डरे बालमन। प्रेम की  जब हवा आ  लगे, फूल  जैसा   झरे  बालमन। प्रेम का  खाद  पानी  मिले, खूब जमकर...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    साथ  तेरे  जब  से  मैं  आया गया। गीत  मेरा   हर  जगह  गाया  गया। फैसला  हक़  में न  फरमाया गया। हर  तरह  से  खूब  बहकाया गया। उंगलियाँ  जज़  पर उठाता  है वही, हक़ ब जानिब जो न...

  • पढ़ाई की राह

    पढ़ाई की राह

    सूर्या और त्रिशा बहुत खुश हैं. खुश क्यों नहीं होंगे? पढ़ाई करते-करते ई-वेस्ट इकट्ठा कर इन दोनों छात्रों ने बनाई 17,000 बच्चों की पढ़ाई की राह. ”सूर्या और त्रिशा, पढ़ाई के साथ आपने ये ई-वेस्ट इकट्ठा...

कविता