नवीनतम लेख/रचना

  • पीया मिलन

    पीया मिलन

      पिया मिलन आओ सखियों मेरा करो श्रृंगार तुम , पिया मिलन की रुत आयी है ।। आज नहीं रोकना मुझे, आज नहीं कहना कुछ मुझे । आज है आयी घड़ी मिलन की, आज है वो...

  • वास्तु

    वास्तु

    *वास्तु ओर आध्यात्मिक* में दोषों को दूर करने में पिरामिड एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है । वास्तु के दोषों या अन्य किसी भी समस्या को हम पिरामिड की सहायता से दूर कर सकते हैं । मिस्र...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    शुश्रुषण माँ बाप का करके, खरा हो जाना कर्ज माता का पिता का था, अदा हो जाना | पूजते है लोग तन मन से वही ढोंगी को ढोंग से संभव नहीं जग में खुदा हो जाना...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    कर्म करना यहाँ’ निष्ठा से, धरम ही जाना भाग्य, प्रारब्ध, सभी को अब भरम ही जाना | मृत्यु के बाद कहाँ जाता, न जाने मानव आदमी रूप में’ विचरण को जनम ही जाना | कर्म फल...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    कर्म का भोगते सिर्फ अन्जाम है दुःख सुख कर्म का मात्र ईनाम है | मुर्ख ही सोचते हैं धरा कष्ट मय मानते स्वर्ग में खूब आराम है | प्यार करके सभी प्यार से दूर क्यों इश्क...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    इस देश का चुनाव है’ अपने शबाब में अब कौन शख्स है खरा’ इस इन्तखाब में ? जनता के’ सामने सभी’ माहिर जवाब में आदाब को भी’ छोड़ते’ नेता इताब में | आरोप अब लगा रहे’...

  • भक्त

    भक्त

    जप रहा था माला मंदिर में एक भक्त रात-दिन, हे राम, हे कृष्ण, हे शिव, सबका नाम गिन गिन। आया कोई भिखारी ऐसे समय मंदिर द्वार, भूखे को रोटी दे दो लगाई उसने गुहार। तीन दिन...

  • जीवन और कर्तब्य!

    जीवन और कर्तब्य!

    मर्यादा कहा गए वो आम बगीचे,वो बरगद की ऊँची शान | कहा गए मर्यादित नर-नारी -कहा गई मानुष पहचान || आडम्बर की होड़ लगी है ,सिर्फ दिखावा शान हुई | मन -चित को हर लेनेवाली,वो मर्यादा...

  • गुरुर होते देखा है !

    गुरुर होते देखा है !

    दिल को अपने ही हाथों मजबूर होते देखा है। न चाहते हुए भी प्यार से दूर होते देखा है। न करनी थी वो गलतियों जो हो चुकी हैं अब, उन छोटी गलतियों को भी नासूर होते...

  • आओ मनाएं दिवाली

    आओ मनाएं दिवाली

    आओ मनाएं दिवाली!! अंधकार को दूर भगाकर जग रोशन करना होगा। द्वेष, भावना, तमस हटाकर सब को गले लगाना होगा।। रामराज्य के स्वागत का अबतो शंख बजाना होगा। राष्ट्र भक्ति का भाव जगाकर मधुमय दीप जलाना...

राजनीति

कविता