Monthly Archives: July 2014




  • पछतावा 

    पछतावा 

    आज पूरी कोलोनी मे आरती का नाम ही सबकी जुबान पर था | पूरी कोलोनी मे आरती ही आरती छाई हुई थी | जैसे सबको टाइम पास का अच्छा-खासा मसाला मिल गया हो | बहुत दिनों...



  • कहानी : रोज की तरह

    कहानी : रोज की तरह

    उसकी खौफनाक आँखेँ, जिसकी सफेद परतोँ पर अक्सर लाल रक्त धमनियां दिखती थीँ, अंदर धँसी हुयीँ। जिनका भौहोँ के साथ कोई संबंध नही समझ आता था। उसका रंग साँवला था, उसके बाल अधकटे और बिखरे छोटे...

  • जूतों की शान

    एक ऐसी वस्तु का नाम बताइए जो खाने के भी काम आती है और पहनने के भी? चकरा गए? मैं बतलाता हूँ-जूता। वैसे जूता खाने को लेकर एक बात स्पष्ट कर दूँ कि लोग अपने मन...