Monthly Archives: July 2014





  • आधा संग्राम

    आधा संग्राम

    जश्न मनाओ कि हमने दुश्मन को धूल चटाई है जश्न मनाओ आतंकी सेना ने मुँह की खाई है जश्न मनाओ अब तक हमने टेके न घुटने अपने जश्न मनाओ आतंकी न छीन सके सपने अपने गर्व...

  • बताओ! वह कौन है?

    बताओ! वह कौन है?

    आज परीक्षा का दिन था। गुरुजी ने प्रश्न किया- ”शिष्यों! बताओ यह कौन है, जो सर्वशक्तिमान है। जिसके समक्ष बडे़-बड़े बलवान घुटने टेक देते हैं। शूरमा, बगलें झाँकने लगते हैं। जो यम और बम, दोनों से...


  • खाली पेट…

    खाली पेट…

    पिता ईट भट्टे पर मजदूरी करता हुआ दुर्घटना में मारा गया। माँ दुसरे आदमी के साथ भाग गयी। रह गये बरुआ और चनिया अनाथ। बड़ी बहन ने छोटे भाई के भरण पोषण की जिम्मेवारी अपने नन्हे...


  • कुछ आत्ममुग्ध बूढ़े

    कुछ आत्ममुग्ध बूढ़े

    कुछ आत्ममुग्ध बूढ़े कुछ अंधभक्त शिष्याएं बूढों को लगता है कि वो हैं साहित्यिक धरोहर वो लिखते है कुछ भी …..बिना तर्क का ….नकारात्मक और लोगों से मनवाते है उसको सर्वोतम ….और शिष्याएं …..उनको जब कुछ समझ नहीं आता तो वो...