दुआएं असर में बिखरती रहीं—-मौन

uljhan

मेरे मन की पीड़ा भी अजीब है,
किसी दर के सामने रूकती नहीं।
’’’’’’’
हर नस में इसका असर हुआ,
किेसी निगाह में ठहरती नहीं।
’’’’’’’’
आइना देखने को जो जी करे,
खड़े होने पर अक्श ठहरती नहीं।
’’’’’’’’
मेरे हाथ जो मांगते दुआ अगर,
वो दुआएं असर में बिखरती रहीं।
’’’’’’’’’’
कोई आइना तो ऐसा ला दो मेरे यार,
मौन दर्द को, मन सूकून देती जाए।