कविता

नूर

वो हमारे दिल में रहते है
हम उनकी नज़र में रहते है

उन्हे भटकती लहरों सा तलाशते है
इसलिए हम बीच मंझधार मे रहते है ”

हिमालय की वादियों सा बेमिशाल हुश्न है उनका
हम बादलों सा इश्क के सागर से उमड़ा करते है

पानी हो या रेत वहाँ सब कुछ मिट जाता है
लहरो से रेत पर उनका नाम लिखा करते है

चाँद की तरह जगमगाता उनका नूर है
शबनम सा उनकी चाँदनी को ओढ़ा करते है

किशोर कुमार खोरेंद्र

परिचय - किशोर कुमार खोरेंद्र

परिचय - किशोर कुमार खोरेन्द्र जन्म तारीख -०७-१०-१९५४ शिक्षा - बी ए व्यवसाय - भारतीय स्टेट बैंक से सेवा निवृत एक अधिकारी रूचि- भ्रमण करना ,दोस्त बनाना , काव्य लेखन उपलब्धियाँ - बालार्क नामक कविता संग्रह का सह संपादन और विभिन्न काव्य संकलन की पुस्तकों में कविताओं को शामिल किया गया है add - t-58 sect- 01 extn awanti vihar RAIPUR ,C.G.

Leave a Reply