Monthly Archives: November 2014


  • फूल

    फूल

      तुम कहते हो सारे फूल अच्छे लगते हैं तेरे जुड़े में गुलाब के फूल अच्छे लगते हैं तुम्हारी नीयत पर मुझे कोई गुमान नही है तुम्हे मुझसे हुऐ शरारती भूल अच्छे लगते हैं उस पार...


  • वेदों की उत्पत्ति कब व किससे हुई?

    वेदों की उत्पत्ति कब व किससे हुई?

    भारतीय व विदेशी विद्वान स्वीकार करते हैं कि वेद संसार के पुस्तकालय की सबसे पुरानी पुस्तकें हैं। वेद चार है, ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद। यह चारों वेद संस्कृत में हैं। महाभारत ग्रन्थ का यदि अध्ययन...

  • कसक

    कसक

    एक आस दबा के रखती हैँ वो अधूरी ख्वाहिशेँ जीने की लालसा को ढँक लेती हैँ घूंघट के नीचे . . . आह भरती ये औरतेँ इनकी अपनी कोई जुबान नहीँ होती हैँ वही कहती हैँ...

  • उड़ान

    उड़ान

      अजनबी हो फिर भी मुझसे एक रिश्ता है तेरे मेरे बीच अनाम सा एक रिश्ता है मुहब्बत ,प्यार ,वफ़ा ए इश्क हो यदि तो कतरे में सागर भी आ बसता है इस जहाँ का मकसद...


  • बुढ़ापा और औलाद

    बुढ़ापा और औलाद

    आज की संतान बहुत सब्र की बहुत कमी है जवानी में कदम रखते ही उन्हें बुजुर्गो की तरह सत्ता चाहिए ! वे यह भूल जाते है की यह प्रक्रिया समयानुसार स्वत: चलित होती रहती है और...


  • आकाश

    आकाश

      सीने में दर्द का अहसास होने लगा है दिल को इश्क़ का आभास होने लगा है तेरी प्रत्येक करवट मुझे तलाशने लगी है अपने वज़ूद पर मुझे विश्वास होने लगा है सूरज डूब गया चाँद...