मेरे हाइकु

पीली सरसो
लट चमके श्वेत
बर्फ से ढकी
^^
रूपसी नारी
सताई जाती जग
सौंदर्य सजा
^^
बसंत ऋतु
कोहरे में लिपटा
बर्फ टुकड़ा
^^
जीवन माला
सांस मनके चले
तन नश्वर
^^
भीतर झाँको
बंद नयन कर
सुहानी झाँकी
^^
लोभ तनय
तनया मरवाई
पाप की हद
^^
स्वतंत्र देश
औरत पराधीन
स्व के घर में
^^
भ्रमर लोभी
रसपान सुमन
बगिया डोले
^^
दुआ के लिए
लोभ का संवरण
कदापि नही
^^
सश्क्त है नारी
वतन बलिहारी
व्यक्तित्व भारी

शान्ति पुरोहित

परिचय - शान्ति पुरोहित

निज आनंद के लिए लिखती हूँ जो भी शब्द गढ़ लेती हूँ कागज पर उतार कर आपके समक्ष रख देती हूँ