Monthly Archives: March 2015


  • महात्मा बुद्ध एवं पुनर्जन्म

    महात्मा बुद्ध एवं पुनर्जन्म

    महात्मा बुद्ध पुनर्जन्म को मानते थे। डॉ अम्बेडकर अपनी पुस्तक भगवान बुद्ध और उनका धम्म (पृष्ठ संख्या 296-301, संस्करण 2010) में महात्मा बुद्ध की पुनर्जन्म में आस्था को स्वीकार करते है। वह भौतिक शरीर का मृत्यु...

  • गुलामी की सीख

    गुलामी की सीख

    भारत भिखारियों का देश यही है आधुनिकता के लिवास में लिपटे लोगों का सन्देश सच में भिखारी हैं सर्वव्यापक कौन ऐसा शहर या गाँव है जहाँ नहीं इनका ठांव है न जाने अबतक कितनों को देखता...





  • उपन्यास : देवल देवी (कड़ी 53)

    48. देह विडंबना का पूर्ण प्रतिशोध दो घड़ी रात गए द्वार पर कोलाहल सुन देवलदेवी वस्त्र संभालकर शय्या से उठ गई। देवलदेवी इस समय कक्ष में अकेली थी। कोलाहल सुनकर उनके मुख पर भय के स्थान हर्ष के...

  • मेरी कहानी-12

    स्कूल हम रोज़ाना जाते थे और स्कूल खुलते ही स्कूल की एक खुली जगह पर एकत्र हो जाते। हर क्लास की अपनी अपनी लाइन होती। हर रोज़ दो हुशिआर लड़कों को सारे स्कूल के आगे खड़े...

  • जो भी हुआ, गलत हुआ

    जो भी हुआ, गलत हुआ

    क्रिकेट के विश्व कप का खुमार भारतीय जनमानस से उतर चुका है. भारतीय टीम अब घर लौट चुकी है. राष्ट्र धर्म और अकूत मनोरंजन वाला महंगा खेल ही भारतीयों में राष्ट्रधर्म की मदिरा पिलाता है. भारत...