उपन्यास : देवल देवी (कड़ी 50)

45. हसन और मुबारक
मुबारक, अलाउद्दीन का चौथा पुत्र था। अपने से बडे़ तीनों भाइयों की दुर्दशा देखकर उसे बड़ा खौफ हुआ। अपने प्राणों या अंग-भंग किए जाने की उसे बड़ी चिंता थी। इस अव्यवस्था में उसे अपने विश्वासपात्र हसन से बहुत आशा थी। इस वक्त वह अपने दोनों हाथ सीने पर रखे बेचैनी से टहल रहा था।

उसे इस तरह टहलते देखकर हसन बोला, ”शहजादे हुजूर, आप इस कदर बेचैन न होइए, जब तक आपका यह सेवक जीवित है आपकी कुछ भी हानि नहीं हो सकती। मैं अपनी जान देकर भी आपकी हिफाजत करूँगा।“

मुबारक, हसन के कंधे पर हाथ रखकर बोला, ”हसन, आज एक तुम्हारा ही सहारा है, लेकिन यह काफूर उसका खौफ हम पर वारी है। कभी-कभी लगता है काफूर मेरे सामने खड़ा है और जबरन मेरी आँखें निकाल रहा है।”

बात-बात करते मुबारक उछल पड़ता है, उसे उछलता देखकर हसन बोला, ”क्या हुआ शहजादे? आप परेशान क्यों हो गए?“

मुबारक ने डरते हुए कक्ष के द्वार की तरफ इशारा किया। हसन ने पलटकर देखा, वहाँ काफूर खड़ा था साथ में कुछ सैनिक। हसन हँसते हुए बोला ”आओ वजीरेआला, मिजाज कैसे है आपके?“

”हसन, हमारे मिजाज की फिक्र न करो और हमें सुल्तान कहने की आदत डालो।“

”ऐ… सुल्तान? वह कैसे वजीरेआला? सुल्तान तो शहाबुद्दीन है।“

”कौन शहाबुद्दीन, जिसका सिर हम अभी उस गर्दन से अलग करके आ रहे हैं। और अब इस मुबारक की बारी है। तुम रास्ते से हटो और इस मुबारक को हमारे हवाले करो।“

”मुआफ करें वजीरेआला, शहाबुद्दीन को मारकर आपने शहजादे मुबारक का काम आसान कर दिया है, यकीनन शहजादे अब सुल्तान बनेंगे।“

”यह शहजादा, इसे कौन बनाएगा सुल्तान?“

”हम वजीरेआला, हम बनाएँगे इसे सुल्तान।“ हसन हँसते हुए बोला।

”तो ठीक है“, काफूर हसन पर तलवार चलाकर बोला, ”पहले तुझे ही जहन्नुम भेजता हूँ।“

दोनों योद्धा एक-दूसरे पर घातक वार करने लगते हैं। काफूर, हसन के सिर को देखकर तलवार चलाता है; किंतु हसन फुर्ती से घूम गए। इससे तलवार उनके कंधे को छूकर हवा में घूम गई। इस समय हसन ने तीव्रता से तलवार काफूर पर मारी। काफूर ने उसे उछलकर अपनी तलवार पर लिया। पर काफूर की तलवार दो टुकड़े होकर जमीन पर गिर गई। और काफूर उस हमले से फिसलकर गिर पड़ा। काफूर के सीने पर अपना पैर रखकर हसन ने उसकी गर्दन को चीर दिया। काफूर को चीखने का भी अवसर नहीं मिला।

मुबारक के चेहरे का तनाव कम हो गया। काफूर के साथ आए सैनिकों को देखकर हसन बोला ”सुल्तान कुतुबुद्दीन मुबारक शाह…“ सैनिक बोले, ”जिंदाबाद।“

तभी मुबारक बोला, ”वजीरे आला खुशरद शाह जिंदाबाद।“ और हसन ने मुबारक के सामने ‘सुल्तान आपकी इनायत’ कहकर सिर झुका दिया।

परिचय - सुधीर मौर्य

नाम--------------- सुधीर मौर्य 'सुधीर' जन्म--------------- ०१/११/१९७९, कानपुर माता - श्रीमती शकुंतला मौर्या पिता - स्व. श्री राम सेवक मौर्या पत्नी - श्रीमती शीलू मौर्या राज्य---------------उत्तर प्रदेश तालीम-------------अभियांत्रिकी में डिप्लोमा, इतिहास और दर्शन में स्नातक, प्रबंधन में पोस्ट डिप्लोमा. सम्प्रति------------इंजिनियर, और स्वतंत्र लेखन. कृतियाँ------------१) 'आह' (ग़ज़ल संग्रह), प्रकाशक- साहित्य रत्नालय, ३७/५०, शिवाला रोड, कानपुर- २०८००१ २) 'लम्स' (ग़ज़ल और नज़्म संग्रह) ३) 'हो न हो" (नज़्म संग्रह) प्रकाशक- मांडवी प्रकाशन, ८८, रोगन ग्रां, डेल्ही गेट, गाजीयाबाद-२०१००१ ४) 'अधूरे पंख" (कहानी संग्रह) प्रकाशक- उत्कर्ष प्रकशन, शक्यापुरी, कंकरखेडा, मेरठ-२५००१ ५) 'एक गली कानपुर की' (उपन्यास) 6)किस्से संकट प्रसाद के (व्यंग्य उपन्यास) 7)अमलताश के फूल (उपन्यास) 8)बुद्ध से संवाद (काव्य खंड)- प्रकाशाधीन 9) देवलदेवी: एक संघर्षगाथा (ऐतहासिक उपन्यास ) 10) क़र्ज़ और अन्य कहानिया (कहानी संग्रह ) पत्र-पत्रिकायों में प्रकाशन - खुबसूरत अंदाज़, अभिनव प्रयास, सोच विचार, युग्वंशिका, कादम्बनी, बुद्ध्भूमि, अविराम,लोकसत्य, गांडीव, उत्कर्ष मेल, जनहित इंडिया, शिवम्, सत्यम ब्यूरेट, अखिल विश्व पत्रिका, रुबरु दुनिया आदि में. वेब प्रकाशन - गद्यकोश, स्वर्गविभा, काव्यांचल, इंस्टेंट खबर, बोलो जी, भड़ास, हिमधारा, जनहित इंडिया, परफेक्ट खबर, वटवृक्ष, देशबंधु, अखिल विश्व पत्रिका, प्रवक्ता, नाव्या, प्रवासी दुनिआ, रचनाकार, अपनी माटी, जनज्वार, आधी आबादी, अविराम संपर्क----------------ग्राम और पोस्ट-गंज जलालाबाद, जनपद-उन्नाव, पिन-२०९८६९, उत्तर प्रदेश ईमेल ---------------sudheermaurya1979@rediffmail.com Sudheermaurya2010@gmail.com blog --------------http://sudheer-maurya.blogspot.com