मेरी कहानी-12

स्कूल हम रोज़ाना जाते थे और स्कूल खुलते ही स्कूल की एक खुली जगह पर एकत्र हो जाते। हर क्लास की अपनी अपनी लाइन होती। हर रोज़ दो हुशिआर लड़कों को सारे स्कूल के आगे खड़े होना होता था और वोह दो से शुरू हो कर बीस तक मुहारनी बोलते, जिस को पहाड़े कहते थे, जैसे एक दूनी दो,  दो दूनी चार, तीन दूनी छे, चार दूनी आठ। दो लड़के पहले बोलते और सारा स्कूल पीछे-पीछे बोलता था। यह मुहारनी बीस तक होती थी और जब खत्म होने को आती तो सारा स्कूल जोर से बोलता- बीसो बीस है चार सौ पूरा।

इस के बाद सवा, डेढ़ और ढाई के पहाड़े शुरू हो जाते। हम से पहले लड़के तो साढ़े तीन का पहाड़ा भी याद करते थे जिस को ऊँटा कहते थे लेकिन हम ने नहीं पड़ा। इन पहाड़ों का इतना फायदा होता था कि आज के कैलकुलेटर फेल थे क्योंकि छोटे मोटे हिसाब को तो यूं ही कर लेते थे। इतने वर्षों बाद भी उस समय के याद किये हुए पहाड़े बहुत हद तक अभी भी याद हैं। जब हमारे बच्चे छोटे थे तो कोई छोटी मोटी कैलकुलेशन होती तो बच्चे हंसकर एक दूसरे को कहते ask dad , और मैं झट से बता देता। अक्सर वोह मुझे से पूछते , डैड ! आप कैसे यह कर लेते हो , तो मैं उन को बताता। इन पहाड़ों के बाद फिर एक और बात ऐड हो गई, वोह थी जन गण मन , हमारा कौमी गीत।

अब आज़ाद भारत में नए कानून बनने लगे जिस का असर तो होना ही था। पता नहीं कब से एक टीचर साधू राम ही होता था और अब नए नए टीचर आने लगे। हिसाब का टीचर , इतिहास और भूगोल का टीचर , पंजाबी का टीचर, इस के अतिरिक्त और भी थे जैसे पीटीआई जो हमें रोज़ाना एक्सर्साइज़ कराता। स्कूल की पुरानी बिल्डिंग भी रिपेअर होने लगी , फूलों की किआरिआं बनने लगी। स्कूल का नक्शा ही बदल गिया। बिदेश में रहते एक शख्स ने गाँव आ कर एक कमरा और बना दिया।

जब हम छठी क्लास में आये तो हमारे लिए हकूमत की ओर से डैस्क भी आ गए। डैस्क ले कर हमारी ख़ुशी का कोई ठिकाना ही नहीं था। ऐसा लगता था हम ने बहुत उन्नति कर ली है। बच्चों के कपडे अब अच्छे होने लगे ( पहले कोई धियान ही नहीं देता था ). हमें स्काउट की वर्दी भी कभी कभी पहननी पड़ती जब कोई मिनिस्टर हमारे स्कूल में आता। यह वर्दी खाकी होती थी और गले में लाल रंग का रुमाल सा बांधना होता था।

सब से अजीब बात यह हुई कि हमारे साथ चार लड़किआं हमारी ही क्लास में दाखिल हुईं। पता चला कि पहले वोह टयूशन से घर ही पड़ती थीं। इन चार लड़किओं में दो तो हमारे टीचर की ही थीं मिन्दो और वीरो । एक डाक्टर सोहन लाल की बेटी बिमला (बिमला इंग्लैण्ड में ही कही रहती है) और एक और थी जिस को सभी नफरत करते थे।

एक बात एक साल पहले और हुई थी कि एक दम हम को हिंदी की किताबे लगा दी गई। किसी को ‘का खा’ भी नहीं आता था और इस से सभी घबरा गए। यह तो अच्छा हुआ कि टीचरों को भी हिंदी सीखनी पडी थी वरना हम को बहुत मुश्किल पेश आती। इस में एक हंसने वाली बात यह है कि हिंदी हम को ऐसे थी जैसे लैटिन। जब हम को पढ़ाते तो हम बहुत हँसते क्योंकि हम ने हिंदी किसी के मुंह से सुनी ही नहीं थी। चौथी श्रेणी के बाद इंग्लिश भी स्टार्ट हो गई थी। फिर एक हिंदी टीचर भी आ गया और जब वोह बोलता तो हम हँसते हँसते लोट पोट हो जाते क्योंकि वोह बोलता ही हिंदी में था। कई दफा ऐसे ऐसे लफ़ज़ वोह बोलता था हम खिल खिला कर हंस पड़ते। उस टीचर को यह समझ नहीं आती थी कि हम हँसते कियों हैं।

एक दफा वोह टीचर बोला ,” आप अपने पिता जी को पत्र लिखें कि हमारे स्कूल में पारितोषिक उत्सव हुआ था “, उस का यह बोलना ही था कि सभी लड़के जोर शोर से हंसने लगे। उस टीचर का नाम तो मुझे अब तक पता नहीं लेकिन उस का नाम सभी ने पारितोषक ही रख लिया। जब कोई बात होती यही कहते थे ” भाई , मैं पारितोषिक से मिल कर आ रहा हूँ “. इस बात से कोई भी भली भाँती समझ सकता है कि नई भाषा सीखने के लिए कितनी मुश्किल पेश आती है। यही कारण है कि जब कोई पंजाबी हिंदी में बात करता है तो उस की हिंदी वोह नहीं होती जो सही है। अब तो सभी हिंदी पड़ने लगे हैं और कुछ तो संस्कृत भी पड़ते हैं लेकिन उन दिनों में जो हम ने देखा है , वोह आज का कोई भी विद्यार्थी समझ नहीं सकता।

एक बात और भी लिखना चाहूंगा जिस ने मुझ पर बहुत असर डाला। यह शायद चौथी कक्षा का समय होगा जब मास्टर केहर सिंह नया नया स्कूल में आया। वोह बहुत पीटता था , इतना पीटता था शरीर पर निशाँ पड़ जाते थे . हर बच्चा उस से डरता था। यों तो मैं पड़ने में अच्छा था लेकिन एक दिन एक सवाल का जवाब गलत होने के कारण उस ने मुझे बहुत पीटा। वोह मुझे बार बार समझा रहा था लेकिन हर दफा मुझ से गलत हो जाता। फिर वोह मुझे प्यार से समझाने लगा मगर मैं रो पड़ा , मुझे कुछ सूझ ही नहीं रहा था।

एक दिन मुझे मेरा दोस्त तरसेम कहने लगा क्यों न हम गुरदुआरे जाया करें , वहां के गियानी जी बहुत अच्छा पढ़ाते हैं। हम दोनों दोसत स्कूल जाने की वजाए गुरदुआरे जाने लगे। गुरदुआरे में गियानी जी के पास बहुत सी लड़किआं आती थीं। जो दस बारह से लेकर तेरा चौदां साल की होंगीं। वोह धार्मिक ग्रन्थ ही पड़ती थी जिस को पांच ग्रंथि और दस ग्रंथि बोलते थे। गुरदुआरे में रोज़ कभी खरबूजे कभी आम कभी कोई चीज़ खाने के लिए आ जाती। हम तो खुश रहने लगे। गियानी जी का पहरावा ऐसा था कि गुरु नानक देव जी ही लगते थे। बहुत बड़ी एक ही घुटनों के नीचे तक कमीज़ होती थी और पैरों में लकड़ी की खडांव होती थी। पगड़ी बिलकुल बाबा नानक जैसी गोल होती। उनकी दाढ़ी भी गुरु नानक देव जी जैसी थी और बीच बीच कुछ वाल सफ़ेद हो गए थे। गुरदुआरे के साथ गियानी जी के रहने का एक कमरा होता था और साथ ही रसोई घर। कभी कभी कोई लड़की गियानी जी के कमरे में चले जाती। क्या करती थी वोह ना हमें मालूम था, ना जानने की इच्छा किसी को थी , हम तो बस खाते पीते मज़े करते और पंजाबी पढकर घर आ जाते।

एक रात को कुछ बज़ुर्ग हमारे घर जमा हुए जिस में मेरे दादा जी भी थे और एक तरफ गियानी जी मुंह लटकाए बैठे थे। एक बज़ुर्ग गियानी जी को टूट टूट कर पड़ रहा था. एक बज़ुर्ग तो बहुत गुस्से में था और कह रहा था , इस की दाढी काट दो, यह सिख कहलाने के काबिल नहीं। मेरे दादा जी ने कहा , गियानी जी ! आज रातो रात अपना सामान ले कर यह गाँव छोड़ जाओ . और क्या क्या बाते हुईं मुझे याद नहीं , सिर्फ इतना पता है कि गियानी जी उस रात के बाद कभी दिखाई नहीं दिए।

कुछ दिन स्कूल से गैर हाज़िर रहने के कारण हमें वापिस स्कूल को जाना मुश्किल लग रहा था क्योंकि मास्टर केहर सिंह का डर हमें सता रहा था। हमारी किस्मत एक बात से अच्छी थी कि गुरदुआरे जाते हमें कुछ ही दिन हुए थे। जब हम स्कूल गए तो मास्टर केहर सिंह ने जब गैर हाज़िर रहने का कारण पुछा तो हम ने “बुखार चढ़ गया था ” कह दिया , किस्मत अच्छी थी मास्टर जी कोई और पेपर देख रहे थे और इस बात पे कोई ख़ास ध्यान नहीं दिया। कुछ दिनों बाद मुझे क्लास का मॉनिटर बना दिया गया जिस से मैं खुश रहने लगा।

क्लास में एक सोम नाथ नाम का लड़का भी था जो पड़ने में बहुत कमज़ोर था। एक दिन मैं ने सभी लड़कों को हिसाब के सवाल लिखवाए। सोम के सभी जवाब गलत थे। मैंने उस की स्लेट पर गोल गोल ज़ीरो बना दिया और ऊंची आवाज़ में बोला ( अंडा अ अ अ अ …. ) सभी लड़के हंस पड़े .इस दिन के बाद सोम नाथ का नाम अंडा ही पड़ गिया। सोम नाथ एक बात में बहुत माहिर था , वोह स्लेट पर तरह तरह के जानवरों की मूरतें बनाता रहता। कई दफा वोह गाए भैंस कुत्ते बिल्ली की तस्वीरें बनाता , हम देख कर हैरान हो जाते। इसी बात से मास्टर केहर सिंह को सोम से चिड़ थी। वोह बोलते ” सोम के बच्चे , तू कभी पास नहीं होगा , तोते चिड़िआं ही बनाता रहेगा “.

एक दिन मास्टर जी कुछ लेट थे और सोम एक तरफ बैठा कोई चित्र बना रहा था। ऊपर से मास्टर जी आ गए और सोम को इतना पीटा कि वोह कभी वापिस स्कूल नहीं आया। गाँव से ही वोह अपनी माँ के साथ कहीं चले गया। १९६२ में मैंने जब इंग्लैण्ड को आना था तो अपने मामा जी की बेटी यानी बहन को मिलने दिल्ली आया। बहन बोली, गुरमेल तुम्हारे गाँव का एक लड़का सोम यहां रहता है। बहन को लेकर मैं सोम के घर पहुंचा। हम ने एक दूसरे को पेहचान लिया। उस की माँ बहुत खुश हुई और हमारे लिए चाय ले कर आई।

फिर सोम मुझे अपने ड्राइंग रूम की ओर ले गिया। ड्राइंग रूम किया था बस एक आर्ट गैलरी ही बना हुआ था। वहां कमरे के चारों तरफ पेंटिंग ही पेंटिंग थी। मैं तो देख कर ही दंग रह गया। फिर वोह मुझे एक एक करके पेंटिंग दिखाने लगा। पहली तस्वीर ऐक्टर प्राण की थी जो पैंसल शेड में थी। प्राण के हाथ में सुलगती हुई सिगरेट और मुंह से धूंए के लच्छे निकल रहे थे। एक और थी जिस में दो बज़ुर्ग किसी पार्क में एक बैंच पर बैठे आपिस में बातें कर रहे परतीत होते थे और इर्द गिर्द दरख्तों से पीले पत्ते घास पर बिखरे पड़े थे। बैंच के पास बज़ुर्गों की अपनी अपनी खूंटीआं थी।

एक तस्वीर पर एक क्लास रूम का सीन था जिस में बच्चे गोल चकर में नीचे बैठे थे। एक लड़का मुर्गा बना हुआ था और उस ने अपनी दोनों टांगों के नीचे से कान पकडे हुए थे। कुर्सी पर बैठा मास्टर मुंह खोलकर जैसे चिला रहा हो। मैंने पुछा , यह केहर सिंह तो नहीं है ? सोम ने हंस कर हाँ कहा और बोला “इस शख्स को मैं हमेशा नफरत करता रहूँगा , इस ने मेरा बचपन खराब कर दिया “. कुछ देर और वहां रह कर वापिस जाने को तैयार हो गया। लेकिन मैं और ही सोचों में गलतान था कि जिस सोम को बचपन में मैंने अंडा नाम दिया था दरअसल वोह अंडा तो मैं हूँ जिस को कुछ नहीं आता। अब इतने वर्षों की बात है बहन भी कब की परलोक सिधार चुक्की है और सुना था सोम भी यह संसार छोड़ चुका है।

(चलता……)

परिचय - गुरमेल सिंह भमरा लंदन

१९६२ में बीए फाइनल की पढ़ाई छोड़ कर इंग्लैण्ड चले गए. लन्दन में निवास कर रहे हैं. किताबें पढने और कुछ लिखने का शौक बचपन से ही रहा है। पिछले १३ वर्ष से रिटायर हैं और बोलने में कठिनाई की समस्या से पीड़ित हैं. पांच वर्ष से रेडिओ एक्सेल बर्मिंघम को कहानियाँ भेज रहे हैं. 'जय विजय' के लिए लघु कथाएँ लिखते हैं. संस्मरण लिख रहे हैं.