कविता पद्य साहित्य

“समर्पण”

सहजता से लक्ष्य की ओर बढना,
निश्चितता से उसको पूर्ण करना,
जिम्मेदारी को विशेष से समझना,
समर्पण शायद इसी को मान लेना।

पूर्ण जिम्मेदारी ही पूर्ण समर्पण है
इसे स्वीकार करना थोड़ा कठिन है
मैं जिम्मा लेता हूँ या मैं समर्पित हूँ,
अधिकांश सुनने को यही मिलता है।

जिम्मेदारियों को लेकर उलझ पड़ना
उस समय समर्पण को याद रखना।
वही आगे बढ़ने की शक्ति देती है,
जिम्मेदारी का आधार ही समर्पण है
———रमेश कुमार सिंह

परिचय - रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

रमेश कुमार सिंह (हिंदी शिक्षक ) विद्यालय --उच्च माध्यमिक विद्यालय ,रामगढ़ ,चेनारी रोहतास जन्म तारीख --०५/०२/१९८५ शिक्षा --एम.ए. (हिन्दी,अर्थशास्त्र),बी.एड. हिंदी पता--कान्हपुर ,पोस्ट-कर्मनाशा ,जिला --कैमूर (बिहार)८२११०५ मोब.९५७२२८९४१०/९४७३००००८०/९९५५९९९०९८ Email - rameshpunam76@gmail.com प्राप्त सम्मान - भारत के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से अब तक 70 सम्मान प्राप्त।

2 thoughts on ““समर्पण”

Leave a Reply