गीतिका/ग़ज़ल

ग़ज़ल-अगर हो सके तो

इनायत तू करना अगर हो सके तो
अदावत ना करना अगर हो सके तो|
तेरा मेरा वादा हुआ था कभी जो
उसे याद करना अगर हो सके तो|
भले प्यार से अपने महरूम कर दो
ना अज़ाब करना अगर हो सके तो|
सदाएं मेरी मेरी कर दी अनसुनी तुमने
अना अब ना करना अगर हो सके तो|
फिदा हूं तेरे हर्फ़े-सच पे “अरुण”मैं
ना मलूल करना अगर हो सके तो|

परिचय - अरुण निषाद

निवासी अर्जुनपुर.बेलहरी.सुलतानपुर। शोध छात्र संस्कृत एवं प्राकृत भाषा विभाग लखनऊ विश्वविद्यालय ,लखनऊ। ७७ ,बीरबल साहनी शोध छात्रावास , लखनऊ विश्वविद्यालय ,लखनऊ। मो.9454067032

One thought on “ग़ज़ल-अगर हो सके तो

Leave a Reply