कविता पद्य साहित्य

हाँ तुम!!

हाँ तुम!!
मुझसे प्रेम करो।
जैसे मैं तुमसे करता हूँ।
जैसे मछलियाँ पानी से करती हैं,
उसके बिना एक पल नहीं रह सकती।
जैसे हृदय हवाओं से करती है
हवा बिना हृदय गति रूक जाती है

हाँ तुम !!
मुझसे प्रेम करो।
चाहे मुझको प्यास के पहाड़ों पर लिटा दो।
जहाँ एक झरने की तरह तड़पता रहूँ।
चाहे सूर्य की किरणों में जलने दो,
ताकि तुम उस सूर्य की तेज लपट में
मुझे दिखाई देती रहो।

हाँ तुम !!
मुझसे प्रेम करो।
उस उजाला की तरह।
जो मीठी -मीठी सुबह में आकर ,
सबको मिठास देती है।
उस चाँदनी की तरह,
जो बिन बताये रातों में आकर,
शीतलता प्रदान करती है।

हाँ तुम !!
मुझसे प्रेम करो।
उस कोयल की कुक की तरह,
जो कानों में सुरीली आवाज़ देकर
मन को शांत करती है।
उस मोर-मोरनी की तरह
जो अपनी सुन्दरता को दिखाकर
मन को मोहिनी बना देती है।
@रमेश कुमार सिंह
http://shabdanagari.in/website/article/हाँतुमकविता-6109

परिचय - रमेश कुमार सिंह 'रुद्र'

रमेश कुमार सिंह (हिंदी शिक्षक ) विद्यालय --उच्च माध्यमिक विद्यालय ,रामगढ़ ,चेनारी रोहतास जन्म तारीख --०५/०२/१९८५ शिक्षा --एम.ए. (हिन्दी,अर्थशास्त्र),बी.एड. हिंदी पता--कान्हपुर ,पोस्ट-कर्मनाशा ,जिला --कैमूर (बिहार)८२११०५ मोब.९५७२२८९४१०/९४७३००००८०/९९५५९९९०९८ Email - rameshpunam76@gmail.com प्राप्त सम्मान - भारत के विभिन्न साहित्यिक संस्थाओं से अब तक 52 सम्मान प्राप्त।

2 thoughts on “हाँ तुम!!

Leave a Reply