कुण्डली/छंद

ताजी खबर : ताजी कुंडलिया

लमो-लमो करने लगा, पूरा भारत देश।
लेकिन वो आते नहीं, जाकर बसे विदेश।
जाकर बसे विदेश, न जाने डर किसका।
सजन हैं कोतवाल, इलाका सारा उसका।
कह ‘पूतू’ कविराय, लगी है नानी मरने।
कैसे हैं खामोश, लगे लमो-लमो करने॥

पीयूष कुमार द्विवेदी ‘पूतू’

परिचय - पीयूष कुमार द्विवेदी 'पूतू'

स्नातकोत्तर (हिंदी साहित्य स्वर्ण पदक सहित),यू.जी.सी.नेट (पाँच बार) जन्मतिथि-03/07/1991 विशिष्ट पहचान -शत प्रतिशत विकलांग संप्रति-असिस्टेँट प्रोफेसर (हिंदी विभाग,जगद्गुरु रामभद्राचार्य विकलांग विश्वविद्यालय चित्रकूट,उत्तर प्रदेश) रुचियाँ-लेखन एवं पठन भाषा ज्ञान-हिंदी,संस्कृत,अंग्रेजी,उर्दू। रचनाएँ-अंतर्मन (संयुक्त काव्य संग्रह),समकालीन दोहा कोश में दोहे शामिल,किरनां दा कबीला (पंजाबी संयुक्त काव्य संग्रह),कविता अनवरत-1(संयुक्त काव्य संग्रह),यशधारा(संयुक्त काव्य संग्रह)में रचनाएँ शामिल। विभिन्न राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय पत्र-पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित। संपर्क- ग्राम-टीसी,पोस्ट-हसवा,जिला-फतेहपुर (उत्तर प्रदेश)-212645 मो.-08604112963 ई.मेल-putupiyush@gmail.com

One thought on “ताजी खबर : ताजी कुंडलिया

Leave a Reply