बाल कविता

फूलों की कहानी- नानाजी की बागवानी

सुबह-सुबह सूरज दादा की किरण पड़ी,
पड़ते ही चुन्नु-मुन्नू की नींद उड़ी,
चुन्नु और मुन्नू ने ली अंगड़ाई,
उठकर नानाजी की और दौड़ लगाई,
कमरे में जाकर देखा तो नानाजी वहाँ नहीं थे,
ना पूजाघर ना रसोई, नानाजी और कहीं थे,
चुन्नु-मुन्नू बाहर आए वहीं खड़े थे नानाजी,
चरण-स्पर्श करके बोले- ” करते हो क्या जी- क्या जी?”
नानाजी बोले- “चुन्नु पहले वहाँ गड्डा खोदो,
और मुन्नू ये लो कुछ बीज उस खड्डे में बो दो,
बारिश के मौसम में पानी पाकर ये फूटेंगे,
डाली, कलियां लाकर फूल सुनहरे हमको देंगे…!”
चुन्नु और मुन्नू अचरज में करने लगे विचार,
कैसे देंगे इतने फूल ये बीज हमें दो- चार,
इतने में नानाजी बोले-“स्कूल नहीं जाना क्या?
नया पाठ मास्टरजी से पढ़कर नहीं आना क्या?”
चुन्नु- मुन्नू में फिर से हौड़ लगी,
स्कूल में जाने को घर में दौड़ लगी,
खेलकूद में चुन्नु-मुन्नू उन बीजों को बिसर गए,
दस-पंद्रह दिन बाद अचानक उनके पाँव ठहर गए,
देखा कि इतने दिन गए थे जिन बीजों को भूल,
उसी जगह खिल आए है नन्हें-नन्हें फूल,
चुन्नु नानाजी को हाथ पकड़ खींच के लाया,
कोमल-कोमल फूलों को जल्दी से दिखलाया,
नानाजी बोले,”इसे कहते हैं बागवानी”,
चुन्नु-मुन्नू चिल्लाए,”फूलों की यहीं कहानी…!”

परिचय - सूर्यनारायण प्रजापति

जन्म- २ अगस्त, १९९३ पता- तिलक नगर, नावां शहर, जिला- नागौर(राजस्थान) शिक्षा- बी.ए., बीएसटीसी., बी.एड. स्वर्गीय पिता की लेखन कला से प्रेरित होकर स्वयं की भी लेखन में रुचि जागृत हुई. कविताएं, लघुकथाएं व संकलन में रुचि बाल्यकाल से ही है. पुस्तक भी विचारणीय है,परंतु उचित मार्गदर्शन का अभाव है..! रामधारी सिंह 'दिनकर' की 'रश्मिरथी' नामक अमूल्य कृति से अति प्रभावित है..!

2 thoughts on “फूलों की कहानी- नानाजी की बागवानी

Leave a Reply