कविता

व्यंग्य कविता : मैं भारत हूं…

अब भी शेष है,
संस्कृति वस्त्र तन पर,
अमीरी उसे हटा दो..
मैं भारत हूं,
संस्कृति का पुरोधा मुझे लुटा दो…!
क्या गीता क्या रामायण,
क्या राम क्या नारायण,
पुराणों को मिटा दो…
मैं भारत हूं,
संस्कृति का पुरोधा मुझे लुटा दो…!
साहस को कायरता से,
प्रेम को दुत्कार से,
अहिंसा को हिंसा से,
धैर्य को चीत्कार से,
बदल लो और बेशर्मी से सटा दो,
मैं भारत हूं,
संस्कृति का पुरोधा मुझे लुटा दो…!
हाय! मैं दोनों ओर से धीरे-धीरे कट रहा,
अंग-अंग कट-कट कर मेरा,
कितने भागों में बँट रहा,
रे कपूत! अब एक कृपा कर,
मेरी अर्थी दो हाथ उठा दो…
मैं भारत हूं,
संस्कृति का पुरोधा मुझे लुटा दो..!
पहले मैं परिचायक था,
संस्कारों का, गरिमा का,
अब मैं केवल राजनीति का,
गढ़ हूं नीम हकीमों का,
कैसी शिक्षा कैसी नीति,
बच्चों को बस पाठ रटा दो,
मैं भारत हूं,
संस्कृति का पुरोधा मुझे लुटा दो..!

परिचय - सूर्यनारायण प्रजापति

जन्म- २ अगस्त, १९९३ पता- तिलक नगर, नावां शहर, जिला- नागौर(राजस्थान) शिक्षा- बी.ए., बीएसटीसी., बी.एड. स्वर्गीय पिता की लेखन कला से प्रेरित होकर स्वयं की भी लेखन में रुचि जागृत हुई. कविताएं, लघुकथाएं व संकलन में रुचि बाल्यकाल से ही है. पुस्तक भी विचारणीय है,परंतु उचित मार्गदर्शन का अभाव है..! रामधारी सिंह 'दिनकर' की 'रश्मिरथी' नामक अमूल्य कृति से अति प्रभावित है..!