लघुकथा

लघुकथा : मनचले

लॉन्ग रूट की बस सर्पीली पहाड़ी सड़क से गुजर रही थी l कंडक्टर की सीटी के साथ ही बस सवारियों को चढ़ाने के लिए एकाएक रुकी l अन्य सवारियों के साथ दो किशोरियां भी बस में चढ़ी l दो मनचले लड़के भी उनका पीछा करते बस में चढ़ गए थे l बस की सभी सीटों पर सवारियां बैठी थी , इसीलिए दोनों लड़के बस की बीच वाली गैलरी नुमा जगह पर खड़े हो गए l दोनों किशोरियों को सीट पर बैठी सवारियों ने आगे – पीछे, जैसे – तैसे एडजस्ट करके बिठा दिया l एक मनचले ने आगे वाली सीट पर बैठी किशोरी के साथ बुदबुदाहट के साथ छेड़खानी शुरू कर दी और दुसरा मनचला पीछे वाली सीट पर बैठी किशोरी के साथ अपनी टांग सटाकर खड़ा हो गया l यही क्रम काफी देर तक चलता रहा l पीछे वाली किशोरी के सामने की सीट पर सिधांत अपनी 5 साल की बेटी और पत्नी के साथ बैठा था l किशोरी की नज़र सिधांत पर पड़ी तो वह लज्जा से झेंप सी गई  थी l मानो, सहायता के लिए कहना चाहती हो मगर संकोचवश कह न पा रही हो l

बस में भीड़ ज्यादा होने के कारण किसी का भी ध्यान उन मनचलों की हरकतों पर नहीं गया l सिधांत ने जैसे ही पीछे वाली किशोरी से कहा कि “अगर आपको बैठने में कोई परेशानी हो रही है तो आप मेरी सीट पर बैठ जाइये l”  इससे पहले कि वह किशोरी कुछ प्रतिक्रिया देती, पीछे वाला मनचला सचेत हो गया l सिधांत ने उस मनचले को उग्र भावों के साथ घूर कर देखा तो उसके माथे पर बल पढ़ने लगे l सहारे का अहसास पाकर, आगे बैठी  किशोरी ने भी हिम्मत जुटाकर ऊँचे स्वर में विरोध कर दिया l सभी सवारियों की नज़र अब उन मनचलों पर थी l दो – तीन सवारियों ने उन्हें हड़का भी दिया था l ये देखकर दोनों मनचलों पसीने – 2 हो गए थे l उनकी टांगों में पैदा हो चुकी कंपकपी से उनका बस में खड़ा रहना अब मुश्किल हो गया था l सवारियों को उतारने के लिए जैसे ही बस रुकी तो वो मनचले तेजी से बस से नीचे उतर गए l

दोनों किशोरियों के चेहरों पर अब मुस्कान तैर रही थी l शायद वे समझ चुकीं थी कि निडरता और आत्मविश्वास से हर मुसीबत का सामना किया जा सकता है l कुछ ही देर में उनका स्टॉपेज आ गया l उन्होंने  निश्चल नेत्रों से सिधांत को एक नज़र देखा और धन्यवाद करते हुए बस से उतर गई l सिधांत ने भी मुस्कुरा कर संतोष की सांस ली l उसका सफ़र लम्बा था, इसीलिए उसने आँखे मूंद ली थी l बस अब पुनः पहाड़ी – सर्पीली सड़क पर निर्बाध दौड़ रही थी l

– मनोज चौहान 

परिचय - मनोज चौहान

जन्म : 01 मई, 1979 जन्म स्थान : हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला के अंतर्गत गाँव महादेव (सुंदर नगर) में किसान परिवार में जन्म l शिक्षा : बी.ए., डिप्लोमा (इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग ), पीजीडीएम इन इंडस्ट्रियल सेफ्टी l पेशा : भारत सरकार के विद्युत् मंत्रालय के अधीन सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम में सहायक प्रबंधक के पद पर कार्यरत l लेखन की शुरुआत : 20 मार्च, 2001 से (दैनिक भास्कर में प्रथम लेख प्रकाशित) l प्रकाशन: समकालीन भारतीय साहित्य, मधुमती, विपाशा, हिमप्रस्थ, गिरिराज, हिमभारती, शुभ तारिका,प्रगतिशील साहित्य, सुसंभाव्य,शैल- सूत्र, साहित्य गुंजन, समाज धर्म, सरोपमा, स्वाधीनता सन्देश,मृग मरीचिका, परिंदे, सृजन सरिता, हिंदी सागर सहित कई प्रतिष्ठित पत्र - पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में कविता, लघुकथा, कहानी, फीचर, आलेख, समीक्षा आदि प्रकाशित l एक दर्जन से अधिक ई- पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित एवं अंतर्जाल पर “कविता कोश” एवं “गद्य कोश” में भी रचनायें संकलित और संवेदनाओं के पंख/दिव्य दृष्टि नामक ब्लॉग में ऑडियो के रूप में रचनायें प्रसारित l प्रकाशित पुस्तकें : 1) 'पत्थर तोड़ती औरत' (कविता संग्रह) - सितम्बर, 2017- अंतिका प्रकाशन, गाजियाबाद (ऊ.प्र.) l 2) लगभग दस साँझा संकलनों में कविता, लघुकथा, व्यंग्य आदि प्रकाशित l विधाएँ : कविता, लघुकथा, कहानी, फीचर, आलेख, समीक्षा, व्यंग्य इत्यादि l प्रसारण : आकाशवाणी, शिमला (हि.प्र.) से कविता पाठ का प्रसारण l सम्मान : 1) साहित्यिक संस्था “कवि हम-तुम”, दिल्ली द्वारा “काव्य गौरव सम्मान” एवं “शब्द गंगा सम्मान” (अप्रैल, 2016) l 2) जेएमडी पब्लिकेशन, दिल्ली द्वारा “प्रतिभाशाली रचनाकार सम्मान”( सितम्बर, 2016) l स्थायी पता : गाँव व पत्रालय – महादेव, तहसील – सुन्दर नगर, जिला – मंडी (हिमाचल प्रदेश) पिन – 175018 वर्तमान पता : सेट नंबर – 20,ब्लॉक नंबर – 4, एसजेवीएन कॉलोनी दत्तनगर, पोस्ट ऑफिस – दत्तनगर, तहसील – रामपुर बुशहर, जिला – शिमला (हिमाचल प्रदेश) -172001 मोबाइल – 9418036526, 9857616326 ई - मेल : mc.mahadev@gmail.com प्रकाशित रचनाओं का ब्लॉग : manojchauhan79.blogspot.com

Leave a Reply