गीत/नवगीत

वीर सपूत के नाम एक पत्र

 

अहो भाग्य !हे वीर पुरुष !इस धरती पर जो तुम आये।
देश प्रेम से ओत प्रोत नव गीत तुम्ही ने तो गाये ।
मरता है केवल शरीर पर सैनिक नहीं मरा करते ।
बलिदानी की शौर्य कथा पर आंसू नहीं बहा करते ।
नहीं समय है, कहीं बैठ कर रोकर शोक मनाने का ।
चलो पताका लिए हाथ में व्यर्थ न समय गंवाने का ।
काव्य विधा के सभी रसों में प्रिय तो मुझे सभी रस हैं ।
लिखो काव्य में शौर्य कथाएं प्यारा तुम्हें वीर रस है ।
हँसते हँसते हास्य बिखेरो तूफानों से टकराओ ।
करो कलम से वार शत्रु पर, विजय पताका फहराओ
भरो जोश, अपनी सरहद पर निशि-दिन डटे जवानों में ।
जागें सुन कर युवा सभी अब खेतों औ’ खलिहानों में
छेड़ो ऐसी तान देश के युवा बनें सीमा-प्रहरी
बूढ़े बच्चे हुंकार उठें ,विवश सुने दुनिया बहरी
सीना तान बढ़ें आगे दुश्मन पर करें वार ऐसा
चूर-चूर हो मद इतना व्यवहार करे मानव जैसा ।

— लता यादव

परिचय - लता यादव

अपने बारे में बताने लायक एसा कुछ भी नहीं । मध्यम वर्गीय परिवार में जनमी, बड़ी संतान, आकांक्षाओ का केंद्र बिन्दु । माता-पिता के दुर्घटना ग्रस्त होने के कारण उपचार, गृहकार्य एवं अपनी व दो भाइयों वएकबहन की पढ़ाई । बूढ़े दादाजी हम सबके रखवाले थे माता पिता दादाजी स्वयं काफी पढ़े लिखे थे, अतः घरमें पढ़़ाई का वातावरण था । मैंने विषम परिस्थितियों के बीच M.A.,B.Sc,L.T.किया लेखन का शौक पूरा न हो सका अब पति के देहावसान के बाद पुनः लिखना प्रारम्भ किया है । बस यही मेरी कहानी है

3 thoughts on “वीर सपूत के नाम एक पत्र

  1. वाह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्हआदरणीया लाजवाब सृजन के लिए बधाई एवम् नमन

  2. प्रिय सखी लता जी, वीर रस की अद्भुत काव्यमय प्रस्तुति.

  3. प्रिय सखी लता जी, वीर रस की अद्बुत काव्यमय प्रस्तुति.

Leave a Reply