Monthly Archives: February 2016

  • शादी

    शादी

    कोच नं एस 8 मेरे सामने ही आकर रुकी। दस बरस के अनुभव से पहले ही अनुमान हो गया था कि कौन सी कोच कहाँ खडी होगी। बहुत से स्टेशनों पर तो अब इंडिकेटर भी लगा...


  • छोटा सा दीपक

    छोटा सा दीपक

    छोटा सा दीपक हूँ, कहते हैं घर का चिराग़ मुझसे ही जलती है, घर के उम्मीदों की आग   नन्हीं सी है लौ मेरी लेकिन हैं आशाऐं ढेर रहें जो आशाऐं अधूरी या लगती थोड़ी देर...