Monthly Archives: March 2016

  • मात -पिता परमेश्वर

    मात -पिता परमेश्वर

    “क्या चल रहा आजकल ?” फोन उठाते ही जेठानी पूछीं | “अरे कुछ नहीं दीदी, घर अस्तव्यस्त है उसे ही समेट रहीं | चारो धाम यात्रा करने चले गए थे न |” “अच्छा ! चारो धाम...