कॉर्डों की महारानी- मनजीत

कोई है किसी के मन की रानी,
कोई है किसी के महलों की रानी,
कोई है किसी के अधरों की रानी,
आप हैं मनजीत जी, कॉर्डों की महारानी.
रोज़ सुबह गुड मॉर्निंग के जितने कॉर्ड मिलते हैं, भेजती हो,
एक-से-एक चमकदार जितने कॉर्ड मिलते हैं, भेजती हो,
कभी नील परी, कभी गुलाबी परी के जितने कॉर्ड मिलते हैं, भेजती हो,
कभी थैंक यू, कभी गुड नाईट के जितने कॉर्ड मिलते हैं, भेजती हो.
अपने अनमोल समय में से हमारे लिए कितना समय निकालती हो,
कभी कामेंट्स, कभी ई. मेल., कभी कॉर्ड के बहाने मिलती हो,
मेरी फोटो देखकर कुलवंत जी को भी मेरी बहिन लगती हो,
सगी बहिन से भी अधिक प्यार देकर बहुत खुशनुमा तस्वीर-सी दिखती हो.
हमारे ब्लॉग की हमसे भी अधिक चिंता आप करती हो,
ज़रा-सा समय मिलते ही ब्लॉग पर तुरंत सुरीली दस्तक देती हो,
हमारे घर किसी का भी जन्मदिन या शादी की सालगिरह हो,
हमें अनगिनत जन्मदिन कॉर्ड्स का उपहार बहुत प्रेम से देती हो.
रेडियो पर कोयल-सी चहकती हो,
जय-विजय में ब्लॉग्स पर फूलों-सी लहकती हो,
गुरुद्वारे का मंच आपके गायन की प्रतीक्षा करता है,
सारा दिन दूसरों के कल्याण हेतु जीवन व्यतीत करती हो.
दुआ है सदैव खुशियों से आपका जीवन फले-फूले भरपूर रहे,
कष्ट-बाधाएं-कांटे आपके दामन से कोसों-कोसों दूर रहें,
चमकती परियां और महकते सुमन हवाओं के साथ विनम्रता का संदेशा लाएं,
आपके लिए हमारी शुभकामनाएं हैं, कि प्रिय सखी मनजीत कौर जी मशहूर रहें.

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।