ब्लॉग/परिचर्चा

सारा की सॉरी

आज हम आपको मस्त खबरों की मस्त दुनिया की सैर पर लेके चल रहे हैं. जैसे कि आपको पता है, कि हमारे इस ब्लॉग का शीर्षक है, ‘सारा की सॉरी’, तो सबसे पहले हम सारा शब्द का अर्थ समझ लेते हैं. आजकल सारा नाम बहु-प्रचलित हो गया है. इसे भारत में आधुनिक नाम माना जाता है, जब कि पश्चिमी देशों में यह नाम बहुत समय से आमतौर पर प्रचलित है. सारा का हिंदी में अर्थ तो आप जानते ही हैं, मात्रा में ढेर सारा. गुजराती में ”केम छो?” अर्थात ”आप कैसे हैं?” पूछने पर जवाब मिलता है, ”सारो छे.” अर्थात बिलकुल ठीक हूं. संस्कृत में सारा शब्द सार से लिए गया है और सारा का संस्कृत में अर्थ है सारांश. सार से सारिका यानी बुलबुल या कोयल जैसा एक पक्षी भी होता है. आप जानते ही हैं, बुलबुल या कोयल अपने मधुरिम स्वर के लिए जाने जाते हैं. अब तो सारा नाम का प्रचलन सभी देशों-धर्मों में मिलता है. बॉलीवुड की सारा के बारे में भी आप जानते ही होंगे. सॉरी और थैंक्यू शब्दों के बारे में भी आप लोग जानते ही हैं, अगर ये दोनों शब्द मन से बोले जाएं, तो बड़े-बड़े रिश्ते संवर जाते हैं, बिगड़ी हुई बड़ी-बड़ी समस्याएं भी हल हो जाती हैं. फ़िलहाल हम आपको हेमिल्टन की एक सारा आंटी से मिलवा रहे हैं, जिन्होंने फेसबुक पर सॉरी बोला है और उनकी यह पोस्ट वायरल हो गई है. सारा ने सॉरी कब और क्यों बोला, आइए जानने के लिए आगे चलते हैं.

क्या हो, जब आपके अंडरवेअर और जुराबें अचानक गुम हो जाएं, इससे भी दिलचस्प बात यह कि आपको पता चले, कि इस अजीबोगरीब चोरी के पीछे एक बिल्ली का हाथ था. जी हां, ऐसी ही एक ब्रिगिट नाम की बिल्ली पकड़ी गई है, जो रात के अंधेरे में पुरुषों के अंडरवेअर और जुराबें चोरी कर लेती थी.

बीबीसी में छपी खबर के मुताबिक अपनी बिल्ली की करतूत जब मालकिन सारा नाथन को पता चली, तो उन्हें बेहद पछतावा हुआ. सारा ने उसकी इस अजीब हरकत को फेसबुक पर डाला, जिसे बड़ी संख्या में लोगों ने शेयर किया.

सारा का कहना था कि जिनका भी सामान ब्रिगिट ने चोरी किया है, वे सभी खोज में लगे होंगे. नाथन ने बताया कि उन्हें घर में पुराने अंडरवेअर देखकर इस बारे में पता चला.

सारा बोलीं कि यह सब हमारे घर के किसी सदस्य का नहीं था, और एक दिन मैंने ब्रिगिट को मुंह में जुराब दबाए हुए पकड़ा. सारा का कहना है कि ब्रिगिट संभवतः पड़ोसियों के यहां से ही अंडरवेअर और जुराबें ला रही होगी.

नाथन ने बताया कि न्यू जीलैंड में बिल्ली को घर में बंद कर रखना आम बात नहीं है और ब्रिगिट किसी पक्षी या जानवर का शिकार नहीं करती है, इसलिए उसे घर में बंद नहीं रखा गया. सारा ने यह भी बताया, कि वे लोग जल्द ही कहीं और जा रहे हैं और अब उनकी बिल्ली की चोरी से किसी को भी परेशानी नहीं होगी.

नाथन ने ब्रिगिट के लाए गए सारे अंडरवेअर्स और जुराबों को लौटाने के लिए लोगों से फेसबुक पर अपील भी की है. सारा ने फेसबुक पर लिखा कि लोग अपनी इन चीजों को जरूर खोज रहे होंगे, यदि कोई इस इलाके का है, तो इसे जरूर शेयर करे.

सारा जी, आपका कहना सही है, कि जिनका भी सामान ब्रिगिट ने चोरी किया है, वे सभी खोज में लगे होंगे. आपने फेसबुक का एक नया व अच्छा प्रयोग किया. इससे हमें यह भी सीख मिलती है, कि बिल्ली-कुत्ते जैसे पालतू पशु भी ऐसा काम कर सकते हैं, इसलिए बिना प्रमाण के किसी पर भी संदेह नहीं करना चाहिए. दिल से सॉरी बोलने के लिए आपको भी कोटिशः हार्दिक थैंक्स.

*लीला तिवानी
लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं। लीला तिवानी 57, बैंक अपार्टमेंट्स, प्लॉट नं. 22, सैक्टर- 4 द्वारका, नई दिल्ली पिन कोड- 110078 मोबाइल- +91 98681 25244

4 thoughts on “सारा की सॉरी

  1. लीला बहन ,लेख बहुत अच्छा लगा .

    1. प्रिय गुरमैल भाई जी, अति सुंदर व सार्थक प्रतिक्रिया के लिए आभार.

  2. प्रेरक आलेख

    1. प्रिय सखी विभा जी, हौसला अफ़ज़ाई के लिए आभार.

Comments are closed.