Monthly Archives: July 2016



  • आई तीजों प्यारी आई

    आई तीजों प्यारी आई

    हरियाली तीज राधे झूला झूलन आई, झोंटे देवत कन्हाई झोंटे देवत कन्हाई, आई तीजों प्यारी आई-राधे झूला झूलन———-   1.राधे सज-धज झूलन आई, लाल चुनरिया शीश सजाई कान्हा प्यारे के मन भाई, झोंटे देवत कन्हाई-झोंटे देवत...




  • कविता :बारिश

    कविता :बारिश

    बारिश बाट निहारे, बैठी विरहन लिये ख्वाब अधूरे रोती है ! शिकवा कर बतलाये किसको आँखों से बारिश भी होती है !! अंजु गुप्ता

  • कविता : मेरी खामोशियों

    कविता : मेरी खामोशियों

    शिकवा करें वो अक्सर खामोशियों का मेरी ! चन्द अल्फाज शिकायत के उनको तंज़ नज़र आते हैं !! बाखूब मालूम था उनको मजबूरियों का मेरी ! बेबस मेरे अल्फाज अब उनके दिल को चुभ जाते हैं...

  • नाम तेरे

    नाम तेरे

    नाम तेरे ख़ुमार हो जैसे बेकरारी करार हो जैसे !! तू मिला तो नसीब जागा है अब तलक जां मजार हो जैसे !! भूल सकते नहीं दुआओं में याद आता हजार हो जैसे !! रात आधी...

  • ग़ज़ल

    ग़ज़ल

    हर अदावत भूल जाना चाहता हूँ। प्यार की बस्ती बसाना चाहता हूँ। इस कदर जो बढ़ रही फ़िरकापरस्ती, पढ़ क़ुरां गीता सुनाना चाहता हूँ। हार कैसे मान लूँ मैं जिंदगी से, दाँव जो हर पल लगाना...