दोहा मुक्तक

प्रदत शीर्षक- अलंकार, आभूषण, भूषण, विभूषण, गहना, जेवर

गहना भूषण विभूषण, रस रूप अलंकार

बोली भाषा हो मृदुल, गहना हो व्यवहार

जेवर बाहर झाँकता, चतुर चाहना भेष

आभूषण अंदर धरे, घूर रहा आकार॥

महातम मिश्रा, गौतम गोरखपुरी

 

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ