गजल

मदीना वाले तेरा ये जो चेहरा
साथ जन्मों का लगता है गहरा।

यो न टुकड़े करो मेरे दिल के
दिल घरोने में महबूब ठहरा।

इतनी मिन्नत से आया है दर पे
हो न जाए कोई घाव गहरा।

मैंने सजदे किये थे मोहम्मद
तब कही जाके दीदार चेहरा।

बस दुआ तेरी काफी है मुझको
अब नही चाहिए कोई पहरा।

यो तो भटके रहे जिंदगी भर
प्यार तुझसे नही दूजा गहरा।

अब तो सुनले ये प्यारे मोहम्मद
यो न जाए जो दिल में है ठहरा।

नंगे पैरो पे चलके मै आऊ
झोली भर दे बंधे अब तो शहरा।

कवि दीपक गांधी

परिचय - दीपक गाँधी

नाम - दीपक गांधी पिता का नाम - टी आर गांधी पद - विकास खण्ड अकादमिक समन्वयक (उच्च श्रेणी शिक्षक) निवास - ग्वालियर म. प्र. रूचि - साहित्य , लेखन ( कविता, गजल) साहित्यिक सफर - 120 कविता, 80 गजल लिख चुका हूँ