मैया जी

मैया जी

सभी पाठकों को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं । आज से पवित्र नवरात्रोत्सव का प्रारंभ हो रहा है । उत्तर भारत में इस अवसर पर जगह जगह माता की चौकी या जागरण जा आयोजन किया जाता है । इसमें पूरी रात भक्त लोग व कलाकार माताजी की भक्ति से सजे बेमिसाल भजन व गीत लोगों के समक्ष पेश करते है जिससे पूरा वातावरण भक्तिमय हो जाता है और रात कैसे बीत जाती है पता ही नहीं चलता । पेश है उत्तर प्रदेश में ऐसे ही जगराते के अवसर पर गाया जा सकनेवाला एक भक्ति गीत । गीत के बोल भोजपुरी भाषा में हैं ।

मैयाजी के गाइब हम गीतिया हो की झूमी झूमी ना
हो की झूमी झूमी ना 2
मैयाजी के गाइब हम ……

अगर कपूर बाती संग मैया देइब अड़हुल फुलवा
मैया देइब अड़हुल फुलवा 2
मैया मोरी दिहें मोहें आशिसिया हो की झूमी झूमी ना
मैयाजी के गाइब हम ……………

नौ दिन में नौ तरह से दिहें मैया मोर दरशनवा
हो दिहें मैया मोर दरशनवा
करबैं मैया के दरशनवा नौ दिन झूमी झूमी ना
मैयाजी के गाइब हम …………………

प्रथमे दर्शन शैलपुत्री त दूजे ब्रह्मचर मैया
हो मैया दूजे ब्रहचर मैया
तीजे चंद्रघंटा माँ सोहें फिर कुष्मांडा मैया
हो सोहें फिर कुष्मांडा मैया
हरिहैं दुखियन के हो दुखवा मैया झूमी झूमी ना
मैयाजी के गाइब हम …………………

स्कंदमाता ‘ कात्यायिनी माँ ‘ पार लगावा नैया
हो मैया पार लगावा नैया
कालरात्रि औ महागौरी क दर्शन करे भलइया
हो मैया दर्शन करे भलइया
मैया करिहै सबकर भलइया हो की झूमी झूमी ना
मैयाजी के गाइब हम ……………………….

सिद्धिदात्री क सुमिरन कर ल सुन ल मोरे भैया
हो भैया सुन ल मोरे भैया
सब दुःख दूर हो जाई ‘ तर जाई भवसागर में नैया
हो तर जाई भवसागर में नैया
मैया मोरी करिहैं बेडा पार हो की अबकी बेरिया ना
मैया जी के गाइब हम गीतिया हो की झूमी झूमी ना
हो की झूमी झूमी ना
हो की झूमी झूमी ना
मैयाजी क गाइब हम …………………..

परिचय - राजकुमार कांदु

मुंबई के नजदीक मेरी रिहाइश । लेखन मेरे अंतर्मन की फरमाइश ।