गांधी एवं शास्त्री जी पर दोहे

=====================
श्री गांधी पर आधारित दोहे
=====================
दो अक्टूबर को हुए,लिये अनोखा काम ।
गांधी लाल  बहाद्दुर,उन  दोनों  के नाम ।।
=====================
अठारह सौ उनहत्तर,वर्ष समझ यह खास ।
दो अक्टूबर को  हुये,पैदा       मोहनदास ।।
=====================
क्वार मास उन्नीस में,था संवत छब्बीस ।
गांधीजी   पैदा   हुये,देश  नवाये शीश ।।
=====================
पुतली  बाई  मात  थी,कर्मचन्द  थे  तात ।
जन्म हुआ वो शहर था,पोरबन्द्र गुजरात ।।
=====================
हिन्दू कुल उत्पन्न थे,वर्ण वैश्य लो जान ।
धर्मपरायण मात थी,पिता शहर दीवान ।।
=====================
गांधीजी ने है दिया,अखिल विश्व को ज्ञान ।
सत्य अहिंसा पर चलो,धर्म   यही  इंसान ।।
=====================
श्री शास्त्री जी पर आधारित दोहे
=====================
दो अक्टूबर उन्नीस की,थी चौथी जब साल ।
शारद  घर  पैदा  हुये,वीर   बहादुर   लाल ।।
=====================
शहर उत्तर प्रदेश में,जनपद मुगल सराय ।
तात शारदा,मात  वो,रामदुलारी     पाय ।।
=====================
काशी विद्यापीठ से,लिया  शास्त्र  का ज्ञान ।
आगे चलकर जो बनी,शास्त्री की पहचान ।।
=====================
जय जवान वो ही कहे,जय हो कहे किसान ।
इस   नारे  से   देश  में,जागा    स्वाभिमान ।।
=====================
जीवन  में   करते   रहो,शास्त्री जी सम यत्न ।
दीपक बन उजियार कर,चमको बनकर रत्न ।।
=====================
✍?नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”

परिचय - नवीन श्रोत्रिय

नवीन श्रोत्रिय "उत्कर्ष" श्रोत्रिय निवास, भगवती कॉलोनी बयाना (भरतपुर)राजस्थान 321401 +91 84 4008-4006​