लघुकथा

मेहनत की खुशबू

उसने पिता से विरासत में मिले जमीन के उस टुकड़े को देखा. ऊबड़ खाबड़. पत्थर ही पत्थर भरे थे. पत्नी ने व्यंग किया ‘जब किसी की किस्मत पर ही पत्थर पड़े हों तो क्या.’ किंतु उसने उसने व्यंग को अनसुना कर दिया. किस्मत से हार मानना तो उसने सीखा ही नहीं था. बहुत समय पहले उसने पढ़ा था कि इंसान की इच्छा शक्ति पहाड़ भी हिला सकती है. उसके मन में भी एक संकल्प था. वह जुट गया अपने लक्ष्य को पाने के लिए. रात दिन एक कर दिए. पसीने की बूंदों से कर्मबीज फलित हुए. चारों तरफ लहलहाते फूलों की छटा थी. बंजर जमीन चमन बन गई थी. पत्थरों से मेहनत की खुशबू आने लगी थी.

परिचय - आशीष कुमार त्रिवेदी

नाम :- आशीष कुमार त्रिवेदी पता :- C-2072 Indira nagar Lucknow -226016 मैं कहानी, लघु कथा, लेख लिखता हूँ. मेरी एक कहानी म. प्र, से प्रकाशित सत्य की मशाल पत्रिका में छपी है

Leave a Reply