ग़ज़ल

सफ़र घर वापसी का है,
मजे का है खुशी का है

संभल कर नाव से उतरें.
किनारा ये नदी का है

मुसाफिर हूं हमारा साथ,
घड़ी बस दो घड़ी का है,

हमारा दिल हमारा कब,
हमारा दिल किसी का है,

जहॉ है बस यहॉ कुछ का,
ये कहने को सभी का है,

तुम्हारे ऐश का सामॉ ,
किसी की बेबसी का है,

‘असर’ जो पास है तेरे,
दिया सब कुछ उसी का है,

अरविन्द असर
D-2/15, रेडियो कालोनी,
किंग्स्वेकैम्प, दिल्ली-110009

परिचय - अरविन्द असर

शिक्षा-परास्नातक 'हिन्दी' जन्म - अगस्त ,1970 लेखन की विधायें- ग़ज़ल,गीत,दोहे, मुक्तक,छंद,लेख, समीक्षा इत्यादि प्रकाशित पुस्तकें- 'अन्तस, (ग़ज़ल संग्रह), वीर भगत सिंह(पद्ध बद्ध जीवनी). पता --D-2/15 रेडियो कालोनी, किंग्सवे कैम्प, दिल्ली-110009 मोबाइल न. 09871329522 इ मेल-arvindasar@gmail.com