Monthly Archives: November 2016

  • वो एक इशारा कर दें

    वो एक इशारा कर दें

    जीने का इतना शौक नहीं हमें जो उसके इश्क़ से किनारा कर दे, अभी इस दरिया में कूद जाऊं, अगर वो एक इशारा कर दें। इक बार तुम्हें खोकर देखा है मैंने ख़ुद को ज़िंदा लाश...

  • कहानी – नहीं

    कहानी – नहीं

    रिहाना पढ़ने में होशियार थी। बी.ए. तक पढ़ाई पूरी करने के बाद उसे कैंपस प्लेसमेंट में नौकरी मिली। रिहाना नौकरी करने लगी। रिश्तेदारों में कानाफूसी होने लगी कि पढ़ाई तो ठीक है, नौकरी की क्या ज़रूरत...