Monthly Archives: December 2016

  • नववर्ष पर:-

    नववर्ष पर:-

    साल 2017 के आने की आहट स्ूार्यास्त के बाद हो गयी ये साल जाते – जाते अनेक निर्णय और नये विश्वासों के प्रश्न दे गया भारत भारत बन उभरे विश्व बने अनुगामी पूर्ण विराम लगे हिंसा...

  • गीत

    गीत

    जिंदगी हर जगह बेहाल लिखूँ । या गरीबों को खस्ताहाल लिखूँ । नहीं ये बिल्कुल बेइमानी होगी, भला क्यों कर मैं नया साल लिखूँ ? * हर जगह धुंध है कुहासा है , झुग्गियों में भरी...

  • भारत माता 

    भारत माता 

    रणबाँकों के बलिदानों की, धरती है भारत माता. आजादी के दीवानों की धरती है भारत माता. गंगा-यमुना की संस्‍कृति से भारत माता है पोषित, ऋषि मुनियों की संतानों की धरती है भारत माता. उत्‍ताल तरंगों से...


  • असर होता है क्‍या

    असर होता है क्‍या

    चलो देखें नई-नई सुबूह को गज़़र कहता है क्‍या? स्‍वर्णिम घटा फैलाएगी पहली किरण सूरज की जब अँगड़ाइयाँ लेंगे विहग स्‍वच्‍छंद होके उड़ेंगे तब आलोक से भागेगा तम गगन को असर होता है क्‍या? दुपहर की...

  • सकारात्मक सोच

    सकारात्मक सोच

    भजनलाल कुछ दिनों के लिए अपने बड़े बेटे राहुल के यहाँ अमेरिका जानेवाले थे । उनके पास एक कार थी जो उन्हें बहुत ही प्रिय थी और इसलिए उसे बेचना नहीं चाहते थे । सोसायटी के...

  • दोहे-  नव-वर्ष

    दोहे- नव-वर्ष

    नया वर्ष आ रहा है नव उमंग के साथ। खुशी मनाने के लिए बने रहे एक साथ॥१॥ •••••••• नव वर्ष में नव उमंग मनायें सभी लोग करें कार्य कुछ ऐसा, बन जाये संयोग॥२॥ •••••••• जोति जलाएँ...

  • आजादी                      भाग –१७

    आजादी भाग –१७

    बड़ी देर तक राहुल के कानों में मोहन के कहे शब्द गुंजते रहे ‘ ………..ये क्या करना चाह रहे हैं कुछ पता नहीं चल रहा । ‘ राहुल के छोटे से दिमाग में मोहन के कहे...