कविता

कविता

बहुत मोहतबर और
सूझवानों की
महफिल से आई थी
बहुत कुछ सुना
विचारशील
तर्कशील
तर्कयोग्य
मेरे तर्को को
भी तो
सराहा गया
खुश थी
सुधिजनों की संगत कर
परन्तु रात मुझे
यह स्वप्न क्यों कर आया
कि मै
एक सरोवर मे से
नहा कर निकली हूँ
और मेरे तन से
चिपकी हैं कई
जोंक
मुझे लिजलिजा सा लग रहा है
मुझे डर लग रहा है…

— रितु शर्मा

परिचय - रितु शर्मा

नाम _रितु शर्मा सम्प्रति _शिक्षिका पता _हरिद्वार मन के भावो को उकेरना अच्छा लगता हैं

Leave a Reply