Monthly Archives: December 2016

  • गज़ल

    गज़ल

    ज़ख्म सारे भर गए पर दाग अब भी बाकी है, करनी थी तुमसे जो मुझे बात अब भी बाकी है, रूठ गया चाँद भी शमा ने भी दम तोड़ दिया, राह दिखाएगा कौन रात अब भी...

  • आजादी      भाग –६

    आजादी भाग –६

    राहुल ने कई बाल्टी पानी लाकर भोजनालय के सामने रखा पानी का बड़ा ड्रम भर दिया । अब तक तक कई खेप पानी लाने के कारण राहुल बेहद थक गया था । बाल्टी ड्रम के पास...


  • कतार से परहेज़ क्यों?

    कतार से परहेज़ क्यों?

    अगर है परेशानी तो है। क्या इससे पहले हमने कभी परेशानी नहीं झेली ? क्या इससे पहले हम कभी कतारों में नहीं लगे ? भूल गए वो राशन की कतारें , मंदिरों में दर्शन के लिए...

  • मेरी कहानी 186

    मेरी कहानी 186

    टैक्सी वाले ने जो स्क्रैच कार्ड हम को दिए थे, उन में तरसेम की हौलिडे की लाटरी निकल आई थी। ड्राइवर की टैक्सी में बैठ कर हम उस होटल पर जा पहुंचे। इस होटल के फ्रंट...