अन्य बाल साहित्य

नया साल, नई बातें

प्रिय बच्चो,
नव वर्ष 2017 की हार्दिक शुभकामनाएं,

 
नया साल शुरु हो चुका है और हमारे लिए प्यारा-प्यारा संदेश लाया है-

 
”नए वर्ष का उगता सूरज, रंग नए ले आया है
सजें सलीके से सब रिश्ते, ढंग नए ले आया है
नवल हर्ष उत्कर्ष नवल संग वर्ष नया ले आया है
सभी सुखी हों सब सम्पन्न हों, यह संदेशा लाया है.”

 
हम नए साल के लिए अनेक नए लक्ष्य निर्धारित कर लेते हैं, इस कारण उन्हें पूरा नहीं कर पाते. आइए आज इसी बारे में कुछ बात कर लें-

 
1.बहुत सारे नए काम एक साथ शुरु न करें. पहले कोई एक काम शुरू करें. नियमित रूप से करें.

 
2.जो भी लक्ष्य निर्धारित करें, वे असलियत के करीब हों. थोड़ा-थोड़ा कर आगे बढ़ने का गोल सेट करें.

 
3.जो सोचें, उसे करना शुरू कर दें, कल पर न टालें.

 
4.आप जो भी करना चाहते हैं, उसे अपनी आदत में शुमार करें. जैसे कि इंग्लिश सुधारनी है तो प्रण करें कि सुबह उठकर रोजाना 3 मिनट शीशे के सामने खड़े होकर तेज-तेज इंग्लिश बोलूंगा.

 
5.ऐसे लोगों के साथ रहें, जो आपको आपकी दिशा में जाने में मदद करें.

 
6.टाइम टेबल बनाकर किसी भी काम के लिए टाइम तय करें और उस पर अमल करें.

 
7.कोई बुरी आदत है और छोड़ नहीं पा रहे हैं तो उसके स्वस्थ विकल्प तलाशें. मसलन अगर बिंज ईटिंग (बार-बार खाने) की आदत है, तो जंक फूड या तला-भुना खाने की बजाय फल-सलाद और हेल्दी स्नैक्स आदि का ऑप्शन रखें.

 

 

आशा है, आप इन बातों पर अमल करेंगे. इसी आशा के साथ-

 

 

आपकी नानी-दादी-ममी जैसी
-लीला तिवानी

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।

Leave a Reply