नौकरी या व्यवसाय

वर्तमान समय में पढ़े लिखे और युवा व्यक्तियों के लिए भी रोजगार एक समस्या बन गई है, तो इस घोर बेरोजगारी के समय में पहला तो बहुत से व्यक्तियों के सामने आजीविका चलाना ही एक समस्या बनी है पर कुछ नौकरी या व्यवसाय की उलझन में हैं । जैसा कि हर एक चीज के मुख्यतः दो पहलू होते हैं जो मैं आपको बताऊँगा …

नौकरी या व्यवसाय

1. कमाई – देखिए यदि आपकी नौकरी करते हैं तो आपकी कमाई सीमित हो जाती है कि एक महीने या जो भी टाइम लिमिट है उसमें आप उतना ही कमाएँगे जितनी आपकी सैलरी है, लेकिन यदि आप व्यवसायी हैं तो कमाई की कोई सीमा नहीं है, लेकिन यदि आप व्यवसायी हैं तो ये भी निश्चित नहीं है कि आप उतना ही कमा पाएँगे जितना प्रत्येक समय….
और नौकरी में आप अधिक मेहनत करके एकतरफा कमाई नहीं कर सकते हैं पर व्यवसाय, स्व व्यापार में आप अधिक मेहनत करते हैं तो आप अधिकतम अवसर निर्मित कर सकते हैं अधिक कमाई करने के ।

2.अधिकारिता – देखिए यदि आप नौकरी करते हैं तो आप किसी न किसी के अधीन रहेंगे लाइक बोस के और यदि आप बोस हैं तो आपकी अधीनता और भी बढ़ जाती है लेकिन नौकरी में ऐसा भी है कि यदि आप किसी के अधीन काम कर रहे हैं तो कोई आपके अधीन भी काम करेगा (ऐसा अधिकतम होता है ) क्योंकि किसी भी कंपनी में या अन्य स्थान पर प्रत्येक स्तर पर कार्य बटा होता है , या ऐसा भी हो जाता है कि आप केवल नाममात्र अधीन होते हैं बांकी आप स्वतंत्र रूप से कार्य कर सकते हैं लेकिन व्यवसाय में आप स्वयं कर्ता – धर्ता होते हैं तो अधीनता का सवाल नहीं उठता फिर व्यवसाय में भी अधीनता हो सकती है ।

www.naveenkumarjainbadamalehra.blogspot.com

आगे पढ़िए अगले लेख में…………

परिचय - नवीन कुमार जैन

नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन माता का नाम - श्री मती ममता जैन स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं - 8959534663 वाट्सऐप नं.- 9009867151 ई मेल - naveenjainnj2701@gmail.com शिक्षा- कक्षा 12 वीं (अध्ययनरत) जन्म तिथि- 27/01/2002 प्रकाशन विवरण - स्वरचित पुस्तक - मेरे विचार सम्मान का विवरण- द्रोण प्रांतीय नव युवक संघ द्रोणगिरि प्रतिभा सम्मान चेतना सम्मान मध्यप्रदेश राष्ट्रभाषा प्रचार समिति प्रतिभा प्रोत्साहन पुरस्कार श्रमणोदय जैन अवार्ड 2016 जैन युवा प्रतिभा सम्मान, यंग जैना अवार्ड 2016 प्रतिभा सम्मान और धार्मिक शैक्षणिक शिविर सम्मान एवं अन्य सम्मान प्राप्त हैं संस्थाओं से सम्बद्धता - सदस्य साहित्य संगम संस्थान व अन्य स्थानीय, इंटरनेट की ई साहित्य संस्थाओं से संपर्क । काव्य मंच , मंच पर काव्य पाठ - लगभग 12 वर्ष की उम्र से ही फिल्मी गानों की तर्ज पर भजन रचे जिनकी विभिन्न धार्मिक मंचों पर प्रस्तुति दी । विभिन्न धार्मिक व सामाजिक और विद्यालयीन मंचों पर काव्य पाठ किया है । अन्य विवरण - स्थानीय पत्र - पत्रिकाओं में, ई - पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन होता रहता है । लगभग 3 वर्ष का साहित्यिक अनुभव है वर्तमान में पढ़ाई के साथ - साथ साहित्य सेवा में संलग्न हूँ ।