मनमीत

थे   हम  तुम  तब   बहुत  अपरिचित ,
पर    चिर    परिचित   से   लगते  थे ।
इक  दूजे   के  सुख – दुख  सुनने  को,
हर   क्षण   उत्सुक   हो   जगते   थे ।।

तुमने      ही    चाहा     था     जुड़ना ,
जन्मों     का    साथ     बताते      थे ।
रीते     –     रीते        अन्तर्मन      में ,
तब     नेह  –  सुधा     बरसाते    थे ।।

साक्षी    है      यह      समय    हमारे ,
पुष्पित    होते    मन  –  उपवन    का।
जो    प्रणय  –  बीज   बोया  विधि  ने,
अल्प   अवधि  में   चिर   नूतन  सा ।।

अमर        रहेगा       प्रेम      हमारा ,
हो    मूक    ‘अधर’    यह   कहते  थे ।
प्राण   सुप्रिये  !   प्राण     तुम्ही     हो,
कह    नीर    नयन   से   बहते    थे ।।

किन्तु     कहीं    ओझल    बैठी    थी,
दुर्दिन     सी       रजनी      मुस्काती ।
उदित      हुयी    सन्देह     गहन    ले,
भोले     प्रिय  –   मन  को  भरमाती ।।

खुशहाल    अवधि    क्यूँ   बीती    है ,
हिय –  नेह –  नदी    क्यूँ    रीती    है ।
सन्देह    –    दृष्टि        आरोपों      से ,
अब    प्राणप्रिया    हत    जीती   है ।।

विस्मृत      करना    चाहा     कितना ,
पर     बिना   श्वांस   जीवन     कैसा ?
जब    तक   हो   तुम मुझमें तब तक,
कुछ     होता    है     स्पन्दन  जैसा ।।

कौन     किसी   को   जीत   सका   है,
हिय   –  प्रान्त    जीतकर   हारी    हूँ ।
बाट     जोहती    अपलक    निशदिन,
त्यज  सब  कुछ   प्रिय पर  वारी  हूँ ।।

क्या    दग्ध    न   मन   होता    होगा ,
प्राण   –  सखा     भी    रोता    होगा ।
विधिवश    भ्रमित   हुयी  है  मति   यूँ,
व्यथा   –  बोझ    ही   ढोता    होगा ।।

हे      ईश    !   सदा    छाया    करना ,
मन    जीवन    का    आराध्य   वही ।
कष्ट  –   कंट   उसके     हर       लेना ,
मैं    साधक    हूँ    तो    साध्य वही ।।

रोम   –  रोम    अभिभूत   आज   भी ,
तुम    जैसे   भी    हो     अच्छे    हो ।
नयी    दिशा    जीने    की    दे     दी ,
मनमीत    अरे  !   तुम    सच्चे   हो ।।

 —  शुभा शुक्ला मिश्रा ‘अधर’

परिचय - शुभा शुक्ला मिश्रा 'अधर'

पिता- श्री सूर्य प्रसाद शुक्ल (अवकाश प्राप्त मुख्य विकास अधिकारी) पति- श्री विनीत मिश्रा (ग्राम विकास अधिकारी) जन्म तिथि- 09.10.1977 शिक्षा- एम.ए., बीएड अभिरुचि- काव्य, लेखन, चित्रकला प्रकाशित कृतियां- बोल अधर के (1998), बूँदें ओस की (2002) सम्प्रति- अनेक समाचार पत्रों एवं पत्रिकाओं में लेख, कहानी और कवितायें प्रकाशित। सम्पर्क सूत्र- 547, महाराज नगर, जिला- लखीमपुर खीरी (उ.प्र.) पिन 262701 सचल दूरभाष- 9305305077, 7890572677 ईमेल- vshubhashukla@gmail.com