मुख्य मंत्री योगी की प्राथमिकताएं

उत्तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री का पद संभालने के बाद पहली बार योगी आदित्‍यनाथ गोरखपुर पहुंचे जहां उनका भव्‍य स्‍वागत किया गया. यहां लोगों को संबोधित करते हुए उन्‍होनें कहा, य‍ह नागरिक अभिनंदन मेरा नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश की 22 करोड़ जनता का अभिनंदन है जिसने भारतीय जनता पार्टी और दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता इस देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर और बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह की रणनीति के अंतर्गत बीजेपी को यूपी में प्रचंड बहुमत दिया है, इसके लिए मैं यूपी की 22 करोड़ जनता का अभिनंनदन करता हूं.उन्होंने कहा कि हम सबके सामने प्रधानमंत्री और बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष और बीजेपी के संसदीय बोर्ड ने बहुत बड़ी जिम्‍मेदारी दी है और वह जिम्‍मेदारी है कि प्रधानमंत्री के सपनों के अनुरूप एवं अन्‍य बीजेपी शासित राज्‍यों की तरह ही उत्तर प्रदेश की जनता तक भी सरकार की हर योजना का लाभ पहुंचे.”

उन्होंने कहा आगे कहा – ‘‘उत्तर प्रदेश आज केन्द्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व की सरकार की राह पर ‘सबका साथ और सबके विकास’ की राह पर चलेगा. यहां पर किसी के साथ ना जाति, ना मत, ना मजहब और ना लिंग के नाम पर किसी प्रकार का भेदभाव किया जाएगा. विकास सबका होगा लेकिन तुष्टिकरण किसी का नहीं होगा. यही आश्वासन देने के लिए मैं आपके बीच उपस्थित हुआ हूं. एक बड़ी योजना के साथ हम कार्य प्रारंभ करने वाले हैं. उत्तर प्रदेश का कोई व्यक्ति चाहे वह किसी तबके या क्षेत्र का हो, कभी भी अपने को उपेक्षित महसूस नहीं करेगा. सबको बताना चाहता हूं कि भाजपा के लोक कल्याण संकल्प पत्र में जो बातें कही हैं, हम अक्षरश: उनका अनुपालन करेंगे. सरकार उत्तर प्रदेश को देश के विकसित से विकसित प्रदेश के रूप में स्थापित करने में सफल होगी. प्रदेश में भाजपा की बड़ी विजय है लेकिन कहीं भी ‘जोश में होश खोने’ की स्थिति नहीं आनी चाहिए. किसी को कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए. आपके उत्साह में कहीं ऐसा ना हो उन अराजक तत्वों को अवसर मिले जो देश प्रदेश की शांति में खलल डालना चाहते हैं. युवाओं, नौजवानों, किसानों, मजदूरों, हर तबके के लिए हमारी योजना होगी. विकास के लिए मजबूती से कार्य करेंगे. लोक निर्माण विभाग के कामकाज की समीक्षा के दौरान निर्देश दिया गया है कि प्रदेश की सभी सड़कें 15 जून तक गडढा मुक्त हो जाएं. उत्तर प्रदेश सरकार की एक टीम यह पता करने के लिए छत्तीसगढ़ भेजी है कि वहां हर व्यक्ति के लिए खाद्य सुरक्षा किस तरह लागू है. वहां का एक एक गरीब किस तरह शासन की योजनाओं से लाभान्वित है. शत प्रतिशत गेहूं का क्रय करेंगे. समर्थन मूल्य किसान के खाते में डालेंगे. राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने पिछले दो साल में कई बार कहा है कि प्रदेश में अवैध बूचड़खानों को हटाओ. जो लोग मानक के अनुसार लाइसेंस लिये हैं, लाइसेंस नियमों का पालन कर रहे हैं, सरकार उन्हें नहीं छेड़ेगी लेकिन जिन्होंने एनजीटी के आदेशों का उल्लंघन किया है, अवैध रूप से गंदगी फैला रहे हैं और जन-स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं, उन्हें हटाया जाएगा. भाजपा सरकार बालिकाओं और माताओं की सुरक्षा के लिए कृतसंकल्प है. प्रशासन से कहा गया है कि ऐसे तत्वों पर कडाई करें जो मनचले और शोहदे किस्म के हैं. एंटी रोमियो स्क्वाड को सक्रिय कर दिया गया है. प्रशासन से स्पष्ट करूंगा कि सहमति से साथ बैठे, बात करते या राह चलते युवक-युवती को कतई ना छेड़ा जाए लेकिन अगर भीड़ वाले स्थानों पर या स्कूलों के बाहर कोई इस प्रकार की हरकत करता है, जिससे बालिका की सुरक्षा को खतरा पैदा हो तो ऐसी स्थिति नहीं होनी चाहिए. जहां ऐसा होगा, वहां के अधिकारी उसके प्रति जवाबदेह होंगे. हमें ऐसी व्यवस्था देनी है कि रात्रि को दस या 11 बजे भी अगर कोई बालिका कहीं से आ रही है और अकेले सड़क पर चल रही है तो अपने आपको सुरक्षित महसूस कर सके. कानून का राज स्थापित करने में, भ्रष्टाचार रहित शासन देने में, उत्तर प्रदेश में हर नागरिक को सुरक्षा की गारंटी देने में, न्याय की गारंटी तथा इस कार्य को मजबूती से करने में सबके सहयोग की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि जहां भी जा रहे हैं, लोगों की समस्याएं हैं. किसानों, नौजवानों, माताओं, बहनों, व्यापारियों की समस्याएं हैं.  नौजवानों का पलायन रोकने के लिए, गांव, गरीब और किसान के लिए हम बड़ी मजबूती के साथ दिन रात एक कर पूरी तत्परता के साथ कार्य करने को संकल्पित हैं.’’

उन्होंने घोषणा की कि कैलाश मानसरोवर यात्रियों को राज्य सरकार एक लाख का अनुदान देगी। पहले यह अनुदान की राशि ५० हजार रुपये की थी.  लखनऊ, नोएडा, गाजियाबाद में से कहीं कैलाश मानसरोवर केंद्र बनेगा जहां से श्रद्धालु आगे की यात्रा बढ़ा सकेंगे।

अगर गौर से देखा जाय तो योगी जी जब से मुख्यमंत्री बने हैं उनके वक्तव्य और क्रिया कलाप में एक कर्तव्यबोध दीखता है. एंटी रोमियो स्क़्वायड के क्रियान्वयन से छात्राओं में खुशी और सुरक्षा की भावना पैदा हुई है. थानों और कार्यालयों में कार्यसंस्कृति के साथ  साफ़ सफाई का भी बोध हुआ है. लोग समय से अपने कार्यालय पहुँच रहे हैं.

सबसे महत्वपूर्ण बात या भी है कि किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज हॉस्प‍ि‍टल में गैंगरेप और एसिड अटैक पीड़िता से मिलने स्वयम  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को महिला से मुलाकात करने लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल कॉलेज अस्पताल पहुंचे थे. पीड़ित के सामने सुरक्षा में तैनात महिला कॉन्स्टेबल द्वारा सेल्फी लेने का मामला सामने आया है. फोटो वायरल होने के बाद तीनों महिला कांस्टेबल्स को शुक्रवार देर रात निलंबित कर दिया गया. पीड़िता पिछले आठ साल से अदालती जंग लड़ रही है. गुरुवार को लखनऊ जाती एक ट्रेन में दो पुरुषों ने उसे पकड़कर जबरदस्ती तेज़ाब पीने के लिए मजबूर कर दिया था. मुख्यमंत्री ने महिला के लिए एक लाख रुपये के मुआवजे की घोषणा की, और पुलिस को जल्द से जल्द महिला के आक्रमणकारियों को पकड़ने का भी आदेश दिया. घटना की जानकारी मिलते ही योगी पीड़िता का हालचाल लेने मेडिकल कॉलेज पहुंचे. उन्होंने अपर पुलिस महानिदेशक (रेलवे) गोपाल गुप्ता को बुलाकर निर्देश दिया कि आरोपियों की गिरफ्तारी सुनिश्चित हो. सीएम के निर्देश के बाद अब पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. इस महिला के साथ वर्ष 2008 में रायबरेली में गैंगरेप किया गया था, और उसके पेट पर तेज़ाब फेंका गया था. तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया था, और जल्द ही मामले की सुनवाई शुरू होने जा रही है. महिला के पति का कहना है कि उनके परिवार को लगातार धमकियां मिलती रही हैं.

तात्पर्य यह कि मुख्यमंत्री ने सबसे पहले कानून का राज्य स्थापित करने और सुशाशन लाने की कोशिश की है. यु पी कि अधिकांश जनता उनके कार्यकलापों से खुश और संतुष्ट लग रही है. किसानों के लिए सरकार बैठक बुलाने वाली है और उनकी समस्याओं के संधान की हर सम्भव कोशिश की जाएगी ऐसा कहा जा रहा है. किसी भी प्रदेश या देश का मुखिया खुद मिहनती और ईमानदार हो तो समस्याओं के समाधान की आशा बंधती है. योगी जी के पास तीन कार पहले से है, एक सांसद और समाज सेवी के रूप में गोरखपुर और उसके आसपास की समस्यायों को दूर करने के लिए अपने स्तर पर काफी प्रयास कर चुके हैं, इसीलिए जनता उन्हें बार-बार(लगतार ५ बार सांसद के रूप में) चुनती रही है. योगी और महंत के रूप में उनका आचरण शुद्ध और सात्विक है. पर दृढ संकल्पता उनकी ताकत है. आशा की जानी चाहिए कि उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाकर मानेंगे. और मोदी के बाद देश को भी आगे बढ़ाने का काम करेंगे. हमारी शुभकामनाएं उनके और उत्तर प्रदेश की जनता के साथ है. उम्मीद है कि दूसरे राज्यों के मुख्य मंत्री उनसे प्रेरणा लेंगे तभी वे अपने राज्य की जनता के दिलों में जगह बना पायेंगे – जवाहर लाल सिंह, जमशेदपुर