काल और मैं.. एक विचित्र परिस्थिति

काल के विरुद्ध मैं हूँ मेरे विरुद्ध काल है हम दोनो को ही चलना है पर वो मेरे पीछे चल रहा है और मैं उसके आगे पर एक दिन वो मुझसे आगे होगा और मैं रुक जाऊंगा कुछ देर के लिये शांत हो जाऊंगा पर वो तो रुक भी नहीं सकता झुक भी नहीं सकता पर मैं शांत स्वर में सागर के किनारे आराम करूंगा और वो मेरे साथ आने को मचलेगा पर कुछ पल रुक कर बैठ नहीं पायेगा….

परिचय - आर्यन उपाध्याय ऐरावत

मेरा नाम आर्यन उपाध्याय है. मैं अभी एम. एस. सी कर रहा हूं. लेखन का शौक मुझे बचपन से है. मैं गाने भी लिखता हूँ और कविता लेखन का भी मुझे शौक है. मैं वाराणसी का रहने वाला हूँ.