“कुंडलिया”

कलशा पूजन मातु का, सस्थापन प्रथमेय

कंकू चंदन अरु जयी, नवल शृंगार धरेय

नवल शृंगार धरेय, मातु चरन नित्य वंदन

नवनव दिन नवरात्र, नाचते माँ के नंदन

गौतम गण अनुराग, विनय अनुनय भर मनसा

श्रद्धा शुद्ध पराग, अलंकृत घर घर कलशा॥

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ