कविता

चींटी और हाथी

चींटी एक चढ़ी पर्वत पे,गुस्से से होकर के लाल ।
हाथी आज नही बच पावे,बनके आई मानो काल ।
——–
कुल मेटू तेरे मैं सारो,कोऊ आज नही बच पाय ।
बहुत सितम झेले है अब तक,आज सभी लूंगी भरपाय ।।
——-
कुल का नाश किया मेरे का,रौंद पैर के नीचे हाय ।
सुन निर्मम हत्यारे द्रोही,कोई आज बचा नही पाय ।।
——–
भर हुँकार गर्ज रही चींटी,सुनलो श्रोता ध्यान लगाय ।
हाथी खड़ा पेड़ के नीचे,यह सुनकर धीमे मुस्काय ।।
———
हाथी की मुस्कान देख के,चींटी को आया है क्रोध ।
चींटी बोली सुन अज्ञानी,मेरी ताकत का नहि बोध ।।
———
देख अकेली तुझको मारूँ,बिना खड्ग बिन कोऊ ढाल ।
तडप तडप के प्रानन त्यागे,ऐसा कर दूं तेरा हाल ।।
——–
इतना कहकर चींटी लपकी,हाथी ने लटकाई सूँड़ ।
चींटी बन गई आज दामिनी,हाथी का भन्नाया मूँड़ ।।
——
धीरे धीरे बढ़ी मारने,हाथी मारे फिर चिंघाड़ ।
थर थर कांपे वह बलशाली,लेने लगा प्रभो की आड़ ।।
—–
मोय बचाओ गिरधर नागर,दीनबन्धु करुणा अवतार ।
आज उबारो संकट भारी,तुम्हे दीन यह रहा पुकार ।।
—–
चींटी बोली सुन हत्यारे,कोउ पाप संगाती नाय ।
कर्म करे जैसे धरती पे,वैसा ही फल लेगा पाय ।।
—–
दुश्मन को छोटा मत आंको,दुश्मन भारी नाहक जान ।
आज इसी गलती के कारण,त्यागेगा तू अपने प्राण ।।
——-
क्रोध भरी चींटी भी भारी,कहता यह सारा संसार ।
तनिक छुआ नही उसने हाथी,लेकिन फिर भी डाला मार ।।
——-
✍? नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”
श्रोत्रिय निवास बयाना
+91 84 4008-4006

परिचय - नवीन श्रोत्रिय

नवीन श्रोत्रिय "उत्कर्ष" श्रोत्रिय निवास, भगवती कॉलोनी बयाना (भरतपुर)राजस्थान 321401 +91 84 4008-4006​

Leave a Reply