चित्रमय-काव्यमय कहानियां- ई.बुक

कुछ समय पहले हमने 17 चित्रमय-काव्यमय कहानियां लिखी थीं. संपादक महोदय विजय भाई तथा कुछ अन्य पाठकों ने इसे ई.बुक के रूप में बनाने की इच्छा ज़ाहिर की थी, ताकि चित्रमय-काव्यमय कहानियां सचित्र देखी-पढ़ी जा सकें. ये चित्रमय-काव्यमय कहानियां हमने 40 साल पहले तब लिखी थीं, जब हमारे बच्चे छोटे थे और जी भरकर कहानियां सुनते थे. उस समय एक रुपए का बड़ा चार्ट आता था, जिसमें चार कहानियों के चित्र होते थे. हमने उन कहानियों के चित्रों के आधार पर कविता में इन कहानियों को ढाला था और उनका एलबम बनाया था. उसी एलबम को हम आपके लिए ई.बुक के रूप में प्रस्तुत रहे हैं. हमें पता है, कि आजकल बच्चे-बड़े सभी ई.बुक बड़े शौक से पढ़ते हैं. इस ई.बुक को पढ़कर अपने विचार अवश्य लिखिएगा. अगर आपको पसंद आई तो हम एक और ई.बुक भी आपके लिए प्रस्तुत करेंगे. इस पहली ई.बुक का लिंक है-

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।