बाल काव्य सुमन- ई.बुक

कुछ समय पहले हमने 41 बाल कविताएं प्रकाशित की थीं. संपादक महोदय विजय भाई तथा कुछ अन्य पाठकों ने इसे ई.बुक के रूप में बनाने की इच्छा ज़ाहिर की थी, ताकि एक साथ कविताओं का रसास्वादन किया जा सके. ये कविताएं हमने 40 साल पहले तब लिखी थीं, जब हमारे बच्चे छोटे थे और जी भरकर कविताएं सुनते थे, याद करके स्कूल में और विभिन्न कार्यक्रमों में सुनाते थे. इनको पढ़कर आपका ज्ञानवर्द्धन तो होगा ही, बार-बार पढ़कर आप स्वयं भी किसी भी विषय पर कविता लिखने को प्रेरित होंगे. ई.बुक का नाम व लिंक है-

 
बाल काव्य सुमन
बाल काव्य सुमन बाल पुस्तक लेखिका – श्रीमती लीला तिवानी

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।