गज़ल

 

मुकम्मल गर हमारी भी दुआ इस बार हो जाये
तो मुमकिन है हमारी जिंदगी गुलज़ार हो जाए
..
चलो अब तो करें मिल कर मुहब्बत का कोई वादा
कहीं ऐसा न हो के आपसी तकरार हो जाए
..
हमारी भी मुहब्बत में खुदा इतना असर देना
जिसे इंकार है अब तक उसे इकरार हो जाए
..
कहें हम भी कभी दिल की कहो तुम भी कभी दिल की
जो दिल में दूरियाँ है वो सभी मिस्मार हो जाए
..
हमे अपने मुकद्दर से शिकायत अब नहीं कोई
सफर करना है तय राहें भले पुरखार हो जाये
..
खुशी देना नहीं देना तेरी मर्जी मेरे मालिक
न इतना गम हमें देना कि दिल बेज़ार हो जाये

रमा प्रवीर वर्मा…..

परिचय - रमा वर्मा

श्रीमती रमा वर्मा श्री प्रवीर वर्मा प्लाट नं. 13, आशीर्वाद नगर हुड्केश्वर रोड , रेखानील काम्प्लेक्स के पास नागपुर - 24 (महाराष्ट्र) दूरभाष – ७६२०७५२६०३