हम उजाले का सफ़र तय इस तरह करते रहे

हम उजाले का सफ़र तय इस तरह करते रहे
धूप में उगते रहे, खिलते रहे, तपते रहे।

घिर गयी संवेदना जब भीड़ आहों की बढ़ी,
बंद कमरे में अकेले गीत हम रचते रहे।

आदमी के रूप में अनुभूति क्यों इतनी मिली,
अश्रु से अपने नयन की दृष्टि हम धुलते रहे।

ज़िंदगी में कुछ न कुछ आवारगी भी चाहिए,
ग़म-खुशी के द्वन्द्व में जो पड़ गये पिसते रहे।

फूल हैं, काँटे भी हैं, शीशे भी हैं, पत्थर भी हैं,
पाँव भी बढ़ते रहे, पथ भी नये बनते रहे।

गीत, कविता या ग़ज़ल केवल बहाना दोस्तो,
आदमी से, आदमी की बात हम करते रहे।

परिचय - डॉ डी. एम. मिश्र

उ0प्र0 के सुलतानपुर जनपद के एक छोटे से गाँव मरखापुर में एक मध्यम वर्गीय किसान परिवार में जन्म । शिक्षा -पीएच डी ,ज्‍योतिषरत्‍न। गाजियाबाद के एक पोस्ट ग्रेजुएट कालेज में कुछ समय तक अघ्यापन । पुनश्च बैंक में सेवा और वरिष्ठ -प्रबंघक के पद से कार्यमुक्त । विभिन्न पत्र -पत्रिकाओं में 400 से अधिक रचनाएँ प्रकाशित और कई बार आकाशवाणी व दूरदर्शन से रचनाओं का प्रसारण । ‘इज्जतपुरम्’ , ‘उजाले का सफर’ , ‘ रोशनी का कारवॉ ’ , ‘यह भी एक रास्ता है’ सहित आठ काव्य- कृतियाँ प्रकाशित । ‘‘ आईना - दर - आईना ’’ , गजल संग्रह शीघ्र प्रकाश्य ।कई साहित्यिक और सामाजिक संस्थाओं से पुरस्कृत । अवधी अकादमी का ‘ ‘जायसी पंचशती सम्मान’ , भारत - भारती का ‘ लोकरत्न सम्मान’ , राष्ट्रीय साहित्य पीठ इलाहाबाद द्वारा ‘ भारती -भूषण सम्मान ’ , प्रेमा देवी त्रिभुवन अग्रहरि मेमोरियल ट्रस्ट अमेठी द्वारा प्रशस्ति पत्र , , दीपशिखा सम्मान , रश्मिरथी सम्मान आादि ! सम्पर्क:604, सिविल लाइन, निकट राणा प्रताप पी0जी0 कालेज सुलतानपुर-228001 मो0 9415074318