संतो के संत बाबूजी महाराज (भाग – २ )

३१ अक्टूबर १९४४ ; लालाजी (बाबूजी के गुरु जी) को चेतना के सभी स्तरों पर अधिकार था । जागृत अथवा सुप्त अवस्था में भी वह काम करते थे । मुझे कार्य करने के लिए वही क्षमता दी गयी ।

१ नवम्बर १९४४ : लालाजी ने बताया तुम वह यंत्र हो जो प्रकृति को निर्बल या सबल बना सकता हो ।

२ नवम्बर १९४४ : मथुरा को आलोकित करने और यमुना का बहाव बदलने के आदेश मिले । मुझे अनुभव हुआ चक्रों की कौन कहे शरीर के प्रत्येक रोयें से मैं प्राणाहुति दे सकता हूँ ।

४ नवम्बर १९४४: मथुरा के लिए प्रस्थान । ५ नवम्बर १९४४: लालाजी : वृन्दावन का प्रत्येक स्थल आलोकित करना । यहाँ राधाकुंड है जाकर उसे फिर से पवित्र बनाना । कृष्ण जी ने लालाजी की आज्ञानुसार काम करने को कहा । कान्यकुब्ज का अनुभव की हृदय प्रेम से भर उठा और यह स्थान ध्यान के लिए अच्छा है इत्यादि बताने पर लालजी ने कहा यहाँ हर कदम पर भगवान् श्रीकृष्ण का अनुग्रह भरा हुआ है ।

६ नवम्बर १९४४ : भगवान् श्रीकृष्ण : द्वारकाधीश के मंदिर के नीचे एक जगह है जिसे तुम्हें देखना भालना है । जहाँ तुम बैठे हो वहां से एक हाथ पश्चिम पर मेरा नाल गाड़ा गया था । तुम सही जगह पर बैठे हो ।

८ नवम्बर १९४४ : वृन्दावन से मथुरा वापस आया । भगवान श्रीकृष्ण ने मेरे कामों पर अपनी ख़ुशी जाहिर की । मेरे प्राण पर संकट के कारण मथुरा में कई जगह जाने से मुझे रोक दिया गया । मैं जहाँ ठहरा था वहीँ से सारे स्थानों को आलोकित करने का मुझे आदेश मिला ।

९ नवम्बर १९४४: गोवर्धन गया । जहाँ जहाँ से होकर मैं जा रहा था उन सब जगहों को आवेशित करने की मुझे आज्ञा दी गयी ।  प्राकृतिक दृश्यों से परिपूर्ण स्थानों और जिनको मुझे पावन करना था का नक्शा मेरी नजर में आया । मुझे लगा जूते पहन कर गोवर्धन पर चढ़ना भद्रता के विरुद्ध होगा इसलिए मैंने जूते उतार दिए । शून्य से प्रकाश की एक विशाल धारा मेरे अंदर प्रवेश कर गयी और मेरे शरीर से सारे पर्वत पर आलोक फैलाती हुई बहने लगी । राधाकुंड को आलोकित करने और उसमें पैर  धोने की आज्ञा मिली ।

१३ और १४ नवम्बर १९४४ : महाबन वो जगह है जहाँ कृष्ण जी अपने सखा और गायों के साथ बैठा करते थे । यह वह टीला है जहाँ वे ग्वालों के साथ बैठा करते थे । मुझे लगा कृष्ण जी टीले के बीचों बीच बैठे बांसुरी बजा रहे हैं । ग्वाल बाल उनके चारों और बैठे हैं, उसके नीचे गायें थी । कृष्ण जी ने मेरी जानकारी को ठीक बताया ।

१६ नवम्बर १९४४ : नंदगाँव में कुछ पवित्र स्थानों का पता चला । मुझे रामेश्वरम जाने की आज्ञा हुई । लालाजी : प्रकृति की सारी शक्तियां तुम्हारे जिम्मे कर दी गयी हैं । यात्रा के बीच सारे ब्योरे मिलेंगें । धरती पर पेड़ पौधे काम होते जा रहे हैं , तीर्थ स्थान दूषित हो रहे हैं , भौतिक हालत बिगड़ गयी है , लोग इच्छाओं के दास होते जा रहे हैं । जाती का अहंकार बढ़ रहा  है । जो भी दोष हैं तुम्हें सब हटाने हैं । कृष्ण जी ने बताया की सबसे पहले समुद्र से दक्षिण पठार ही बाहर निकला था और भारत की सभ्यता का आरम्भ यहीं से हुआ था ।

२५ नवम्बर १९४४: मुझे राजनैतिक परिवर्तन लाने की आज्ञा मिली । लालाजी ने लम्बे काल तक मुझे इस काम के लिए प्राणाहुति दी । मुझे अनुभव हुआ मेरे शरीर के प्रत्येक कण में ऊर्जा भरी जा रही है ।

१ दिसम्बर १९४४ : राधा जी ने अंत: संपर्क स्थापित कर मुझे अपने कुछ संस्मरण सुनाये । स्वामी विवेकानंद जी ने अंत:संपर्क किया और मेरी दशा और मेरे किये काम पर संतोष प्रकट किया । राधा जी और स्वामी विवेकानंद जी दोनों ने बताया की ध्यान की जो विधि उन्होंने अपनाई  थी वो यही थी जो हमारी संस्था में अपनाई जाती है । स्वामी विवेकानंद ने अपनी संस्थाओं के भी कुशल क्षेम का ध्यान मुझसे रखने को कहा । कहा की जब कभी मुझे उनकी जरूरत होगी वे मेरे पास आ जायेंगें ।

२ दिसम्बर १९४४ : कबीर जी ने भी मुझसे अपने मिशन को दुरुस्त करने को कहा ।

४ दिसम्बर१९४४ : अगस्त्य मुनि ने मुझे सूचित किया की उन्होंने मेरे काम के लिए दक्षिण में क्षेत्र तैयार कर दिया है मुझे अति शीघ्र वहां जाने को कहा ।

११ दिसम्बर १९४४ : चैतन्य महाप्रभु ने कहा की मेरी सारी आशाएं तुम पर टिकी हुए हैं उन्होंने मुझे उड़ीसा जाने की आज्ञा दी । स्वामी विवेकानंद जी ने हमारे देशवासियों की पाश्चात्य सभ्यता की नक़ल पर असंतोष प्रकट किया ।

१७–१८ दिसम्बर १९४४ : आज मैं मद्रास पहुंचा । रास्ते में मुझे दक्षिण पठार को आलोकित करने की आज्ञा मिली ।

Image result for babuji ashram manpakkam photos

बाबूजी आश्रम मद्रास

मद्रास नगर को आलोकित करने का काम मैंने समाप्त कर दिया । रामेश्वरम प्रस्थान की आज्ञा मिली ।

२२ दिसम्बर १९४४: (रामेश्वरम) स्वामी विवेकानंद जी ने मुझे बधाई दी और कहा मेरा कार्य प्रशंसनीय रहा । रामेश्वरम का मंदिर सोचनीय दशा में था । ऐसा लगा की वहां कोई मर गया हो । लक्ष्मीकुंड, सीताकुंड, रामकुंड सब आलोकित किये गए ।

३ जनवरी से २१ जनवरी १९४५  : बैंगलोर, मैसूर,  बैलूर मंदिर, हैदराबाद, होकर  आ गया । मनमाड से बम्बई तक के सारे क्षेत्र , सूरत स्टेशन निकल जाने पर गुजरात को भी  आलोकित करने का आदेश मिला ।

२३ जनवरी १९४५ : कृष्ण भगवान ने द्वारका आलोकित करने की आज्ञा दी और बताया यह वह प्रदेश है जिसके एक भाग को समुद्र बहा के ले गया है । ओखा दुर्ग जाओ और उसे आलोकित करो ।

२९ जनवरी १९४५ : आज मथुरा पहुंचा । कृष्ण जी ने मेरे कार्य की प्रशंसा की और कहा की उत्तर भारत के काम की शुरुआत दिल्ली से हो ।

२ फरवरी १९४५: शाहजहांपुर पहुंचा, लालाजी ने सलाह दी आध्यात्मिक प्रशिक्षण के लिए एक संस्था बनाओ और मुझे स्वामी विवेकानंद जी से सलाह लेने की आज्ञा दी ।

परिचय - रविन्दर सूदन

शिक्षा : जबलपुर विश्वविद्यालय से एम् एस-सी । रक्षा मंत्रालय संस्थान जबलपुर में २८ वर्षों तक विभिन्न पदों पर कार्य किया । वर्तमान में रिटायर्ड जीवन जी रहा हूँ ।