गाथ छंद

, गाथ छंद◆* विधान~[ रगण सगण गुरु गुरु] ( 212 112 2 2) 8 वर्ण, 4 चरण, दो-दो चरण समतुकांत]

“गाथ छंद”

प्राण हो हिय आओ जी
तान हो पिय गाओ जी।
राग हूँ सुन जाओ तो
आस हो जत लाओ तो।।

चाह हो तुम बैठो सा
आह ले मत ऐंठो सा।
नाचती रहती गौरी
पाँव में घुघरू पौरी।।

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ