जय हिंदी, जय भारत

प्रिय बच्चो,

जय हिंदी, जय भारत,

कविता लिखना सीखने के इस क्रम में हम आपको अनेक विषयों पर कविता लिखना सिखाते हैं. आज हिंदी दिवस है. आप जानते हैं, कि 15 अगस्त 1947 को देश आजाद हुआ तो देश के सामने भाषा का सवाल एक बड़ा सवाल था. भारत जैसे विशाल देश में सैकड़ों भाषाएं और हजारों बोलियां थीं. 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी हिंदी को अंग्रेजी के साथ राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया था. बाद में जवाहरलाल नेहरू सरकार ने इस ऐतिहासिक दिन के महत्व को देखते हुए हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया. पहला आधिकारिक हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 में मनाया गया. हिंदी दिवस के उपलक्ष में आपके समक्ष हम हिंदी में हिंदी व देश के नाम कुछ संदेश लिखना सिखा रहे हैं. ऐसे छोटे-छोटे संदेश या नारे आप भी लिख सकते हैं. कोशिश करके देखिए.

1.हिंदी भाषा देश की शान,
इससे भारत बने महान,
अपनी भाषा अपनाएं तो,
बढ़े देश का मान-सम्मान.

2.सद्भावना जीवन सार बने
हर मानव का श्रृंगार बने,
सद्भावना से कायम धरती,
हम धरती पर क्यों भार बनें?

3.भेदभाव की कारा तोड़ो,
भारत जोड़ो, भारत जोड़ो.

4.वैर-भाव को दूर हटाकर,
प्रेम काअलख जगाएंगे,
भारत मां, हम तेरे बच्चे,
देश की शान बढ़ाएंगे.

5.हिंदी भाषा अपनी भाषा,
जीवन को दिखलाती आशा,
हिंदी को अपनाकर हम सब,
इसको आगे बढ़ाएंगे.

आपकी नानी-दादी-ममी जैसी

— लीला तिवानी

परिचय - लीला तिवानी

लेखक/रचनाकार: लीला तिवानी। शिक्षा हिंदी में एम.ए., एम.एड.। कई वर्षों से हिंदी अध्यापन के पश्चात रिटायर्ड। दिल्ली राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर दो शोधपत्र पुरस्कृत। हिंदी-सिंधी भाषा में पुस्तकें प्रकाशित। अनेक पत्र-पत्रिकाओं में नियमित रूप से रचनाएं प्रकाशित होती रहती हैं।