मैया जी की आयी सवारी

( आज से शारदीय नवरात्रोत्सव का प्रारम्भ हो रहा है । आज से जगतजननी मां दुर्गाजी के नौ विभिन्न स्वरूपों की नौ दिन तक पूजा अर्चना की जाती है । पेश है इसी सुअवसर पर गाया जा सकनेवाला एक गीत / भजन । सभी श्रद्धालुओं को नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं । )

दर्शन कर लो रे …
दर्शन कर लो भक्तों आके बारी बारी
है मैया जी की आयी सवारी ।।

प्रथमे दर्शन देने माता शैलपुत्री हैं आईं
मैया शैल पुत्री हैं आईं
दूजे ब्रम्हचारिणी मैया को हम शीश नवाई
मैया को हम शीश नवाई
शीश नवा के जो भी मांगो पूरण करती मैया
किरपा माँ की मिले तो विपदा करती ता ता थैया
भक्ति कर लो रे .. .जय हो ….
भक्ति कर लो मैया की है बलिहारी
है मैया जी की आयी सवारी ।।

चंद्रघंटा और कुष्मांडा माँ की है लीला न्यारी
मैया की है लीला न्यारी
लाल फूल ले अगर , कपूर पूजा की करो तैयारी
हाँ पूजा की करो तैयारी
अर्पण कर दो तन मन माँ को , खुद की सुध बिसारी
माँ जो करतीं भला ही होगा , जानत दुनिया सारी
संशय ना करो …..जय हो …
संशय ना करो , मैया भरोसेवाली
है मैया जी की आयी सवारी ।।

स्कंदमाता ,कात्यायिनी माँ के दर्शन मनोहारी
मैया के दर्शन मनोहारी
फूल , शंख वर मुद्राधारी एक हाथ तलवारी
मैया एक हाथ तलवारी
रक्तपुष्प कंठन पर साजे , माँ की सिंह सवारी
सुर असुर नर नारी सेवत , तिनके दुःखहारी
पूजन कर लो रे …..जय हो ….
पूजन करते मैया जी की त्रिपुरारी
है मैया जी की आयी सवारी ।।

कालरात्रि , महागौरी , मैया सिद्धिदात्री फलदायी
मैया सिद्धिदात्री फलदायी
नौ दिन में नौ रूप हैं मैया के दर्शन सुखदायी
मैया के दर्शन सुखदायी
जीवन अपना सफल बना लो कर लो माँ की सेवा
यही वो कर्म है प्यारे जिसमें हरदम मिलता मेवा
दर्शन कर लो रे …..जय हो ….
दर्शन कर लो भक्तों आके बारी बारी
है मैया जी की आयी सवारी ।।

।। जय माँ दुर्गे ।।

( समस्त देशवासियों , ब्लॉगर मित्रों व पाठकों को नवरात्रोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं । )

परिचय - राजकुमार कांदु

मुंबई के नजदीक मेरी रिहाइश । लेखन मेरे अंतर्मन की फरमाइश ।