कलियुग

पंडित कमलाकर जी घर से घाट की तरफ बढ़ रहे थे । सुबह की बेला थी । घाट पर नदी में नहा धोकर किनारे बने मंदिर में पूजा पाठ करना उनकी दैनिक दिनचर्या थी । घाट के सामने ही कलुआ हरिजन की कच्ची झोंपड़ी थी । पंड़ित जी घाट पर पहुंचे ही थे कि अचानक कलुआ हरिजन उनके सामने आ गया और फिर अचानक पंडित जी पर नजर पड़ते ही चौंक पड़ा और झुक कर उनका अभिवादन किया ” पंडित जी पाँय लागूं । ”
” जय हो !. ” अनमने मन से कहकर पंडितजी घाट की सीढ़ियां उतरने लगे । सीढियां उतरते हुए पंडित जी का बड़बड़ाना जारी था ” राम राम राम राम ! घोर कलयुग आ गया है । अब ई हरिजन लोग तो सिर पर नाचने लगे हैं । बताओ ! हम नहीं देखते तो हमसे टकरा ही जाता । हमको भी भ्रष्ट कर देता । राम हमको बचा लिए । ”
थोड़ी ही देर बाद पंडितजी नहाकर नदी से बाहर निकले । गीली धोती उठाने के लिए झुकते हुए उनका संतुलन खो गया और वह तेज चीख के साथ सीढ़ियों पर ही गिर पड़े । कमर में चोट गहरी लग गयी थी । उनकी चीख सुनकर कलुआ हरिजन भागते हुए आया । उसे देखते ही पंडितजी दर्द से कराहते हुए चीख पड़े ” अरे कलुआ ! अच्छा हुआ तू आ गया । ”
थोड़ी ही देर बाद पंडितजी कलुआ के कंधे पर अपनी बाहें डाले दर्द से कराहते हुए अपने घर की तरफ जा रहे थे ।

परिचय - राजकुमार कांदु

मुंबई के नजदीक मेरी रिहाइश । लेखन मेरे अंतर्मन की फरमाइश ।