“कुंडलिया”

अपनी गति सूरज चला, मानव अपनी राह

ढ़लता दिन हर रोज है, शाम पथिक की चाह

शाम पथिक की चाह, अनेकों दृश्य झलकते

दिनकर आए हाथ, चाँदनी चाँद मलकते

“गौतम” छवि दिनमान, वक्त पर जलती तपनी

पकड़ तनिक अभिमान, शुद्ध कर नीयत अपनी

महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

परिचय - महातम मिश्र

शीर्षक- महातम मिश्रा के मन की आवाज जन्म तारीख- नौ दिसंबर उन्नीस सौ अट्ठावन जन्म भूमी- ग्राम- भरसी, गोरखपुर, उ.प्र. हाल- अहमदाबाद में भारत सरकार में सेवारत हूँ